दुल्हन के पिता पर हाथ उठाना दूल्हे को पड़ा भारी, …और दे दिया तलाक

मुजफ्फरनगर में एक शादी समारोह में एक दुल्हे ने अतिरिक्त दहेज की मांग की। जिससे दूल्हा और दुल्हन पक्ष के लोगों में जबरदस्त मारपीट हुई। दूल्हे को दुल्हन के पिता पर हाथ उठाना इतना भारी पड़ा कि दुल्हन ने तलाक दे दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने बीच बचाव कराया। सोमवार (20 मार्च) को दूल्हा और दुल्हन पक्ष के लोगों के बीच समझौते को लेकर पंचायत भी हुई। लेकिन कोई समझौता नहीं होने पर दूल्हे मुस्तकीम ने भी दुल्हन शबनम को तलाक दे डाला। फिर बारात को बिन दुल्हन ही वापस लौटना पड़ा।

Published by priyankajoshi Published: March 20, 2017 | 8:56 pm
Modified: March 21, 2017 | 4:54 am

मुजफ्फरनगर : एक शादी समारोह में एक दूल्हे ने अतिरिक्त दहेज की मांग की, जिससे दूल्हा और दुल्हन पक्ष के लोगों में जबर्दस्त मारपीट हुई। दूल्हे को दुल्हन के पिता पर हाथ उठाना इतना भारी पड़ा, कि दुल्हन ने तलाक दे दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने बीच-बचाव किया। मामला सोमवार (20 मार्च) का है।

दूल्हा और दुल्हन पक्ष के लोगों के बीच समझौते को लेकर पंचायत भी हुई। लेकिन कोई निदान नहीं निकला। दूल्हे मुस्तकीम ने भी दुल्हन शबनम को तलाक दे दिया। आखिरकार बारात को बिन दुल्हन ही वापस लौटना पड़ा।

क्या है मामला?
-मामला मुज़फ्फरनगर के थाना ककरौली क्षेत्र के गांव ढांसरी का है।
-जहां गांव निवासी शमीम की बेटी शबनम का निकाह थाना भोपा के गांव बेलड़ा निवासी मुस्तकीम से होना था।
-रविवार शाम मुस्तकीम बारात लेकर शबनम के घर पहुंचा।
-दोनों का मुस्लिम रीति रिवाज से निकाह हुआ।
-लेकिन सलामी के समय दूल्हे ने अतिरिक्त दहेज की मांग कर दी।

जमकर हुई हाथापाई
-काफी समझाने पर भी जब दूल्हा नहीं माना, तो दोनों पक्षों में नौबत मारपीट तक आ गई।
-इतना ही नहीं, दूल्हे मुस्कीम ने दुल्हन के पिता शमीम के ऊपर हाथ उठा दिया।
-फिर दुल्हन पक्ष के लोगों ने दूल्हे समेत सभी बारातियो को बंधक बना लिया।
-पुलिस भी मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों को समझाने का प्रयास किया।
-लेकिन दुल्हन शबनम ने दूल्हे की इस हरकत पर दूल्हे मुस्तकीम को तलाक दे दिया।

आगे की स्लाइड्स में जानें दूल्हे ने क्या कहा?…

क्या कहना है दुल्हे का?
-मुस्कीम ने कहा, ‘मेरी शादी एक साल पहले ढांसरी निवासी शबनम से तय हुई थी।
-रविवार (20 मई) को मेरी बारात गई थी।
-वहां पर पूरी रस्म होने के बाद काजी ने निकाह भी पढ़ाया।
-बाद में सलामी की रस्म पर बिचौलियों में झगड़ा हो गया। बाद में लड़की ने तलाक दे दिया।

दूल्हा अब भी उम्मीद में 
-करीब दो घंटे मुझे और पूरी बारात को बंधक बनाए रखा।
-मुझे काजी ने बताया की लड़की ने तलाक दे दिया है। ये नहीं बताया कि क्यों?
-दूल्हे का कहना है कि वो लोग मुझ पर गलत आरोप लगा रहे हैं।
-मैंने भी काजी को तलाक बोला। ये तलाक नाजायज है मुझसे भी दबाव में कहलवाया गया।
-अगर शबनम आना चाहे तो आ सकती है।

इस पर दुल्हन ने क्या कहा?
-शबनम ने कहा, “मेरी शादी 19 मार्च तारीख को मुस्तकीम के साथ हुई थी।
-कल बारात आने पर उन लोगों ने दान-दहेज, एक लाख रुपए और कार मांगने लगे।
-सलामी पर मुस्तकीम मारपीट करने लगा।
-मेरे पिता के साथ दूल्हे ने मारपीट की और मेरे घर वालो को बेज्जत किया।
-इसलिए मैंने उसे तलाक दे दिया। उसने बाद में तलाक दिया।
-दुल्हन का कहना है कि मैंने जो तलाक का फैसला लिया वो सही है।
-मेरे घर वाले भी इस फैसले से सहमत हैं। आज उन्होंने मेरे पिता को मारा, कल अपने घर ले जाकर मुझे भी मार सकते हैं।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App