Top

BSP प्रदेश अध्यक्ष ने बांटी राहत सामग्री, आग लगने से जला था पूरा गांव

Admin

AdminBy Admin

Published on 22 April 2016 8:27 AM GMT

BSP प्रदेश अध्यक्ष ने बांटी राहत सामग्री, आग लगने से जला था पूरा गांव
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गाजीपुरः पिछले दिनों जमानियां थाना क्षेत्र के देवरिया गांव के राजभर बस्ती में आग लग गई थी। इससे पूरा गांव खुले आसमान के नीचे जीवन जीने को मजबूर हो गया है। गुरूवार को बसपा के प्रदेश अध्यक्ष और क्षेत्रिय नेताओं ने पीड़ितों की सुध ली और राहत सामग्री बांटी।

क्या है मामला?

-जमानियां थाना क्षेत्र के देवरिया गांव के राजभर बस्ती में 14 अप्रैल को आग लग गई थी।

-इस आग की चपेट में आए दर्जनों जानवर और घर जलकर राख हो गए।

-इस पर काबू पाने पहुंचे ग्रामीणों में से कई झुलस गए, जो अभी भी जिंदगी और मौत से जुझ रहे हैं।

-इस भीषण आगजनी के बाद भी प्रदेश सरकार ने अब तक कोई सुध नहीं ली है।

यह भी पढ़ें...हजार एकड़ में जली गेहूं की फसल, किसानों ने NH पर गाड़ियों को तोड़ा

-इससे ग्रामीणों में काफी आक्रोश के साथ मायूसी छाई हुई है।

-बसपा प्रत्याशी अतुल राय ने पार्टी के उच्च नेताओं को इसकी जानकारी दी।

-गुरुवार को बसपा प्रदेश अध्यक्ष पीड़ितों से मिले और राहत सामग्री वितरित की।

बसपा प्रदेश अध्यक्ष ने क्या कहा?

-राम अचल राजभर ने कहा कि बसपा ही एक ऐसी पार्टी है जो दलितों की देख रेख करती है।

-बसपा सुप्रिमों का निर्देश है कि पीड़ितों की हर संभव मदद की जाए।

-इसके तहत पीड़ितों में चावल आटा, दाल आदि खाद्य समाग्री समेत आर्थिक सहायता भी दी गई।

-आगजनी में दो ऐसे परिवारों का पूरा सामान जलकर राख हो गया, जिनके घर बरात आने वाली है।

यह भी पढ़ें...बिल्ली के कूदने से ट्रांसफार्मर में लगी आग, हुआ लाखों का नुकसान

खुले आसमान के नीचे जीने को हुए मजबूर

ग्रामीणों ने अपनी दुख भरी कहानी बताते हुए कहा कि आग को देखकर ऐसा लग रहा था कि कोई दैविय आपदा आ गई है। देखते ही देखते 36 घरों को आग ने अपने चपेट में ले लिया। पूरे बस्ती के लोग खुले आसमान के नीचे जीवन जी रहे हैं। प्रदेश सरकार के नेता तो दूर जिला प्रशासन के लोग भी सिर्फ खानापूर्ति के लिए मौके पर आए, लेकिन किसी ने पीड़ितों की मदद नहीं की।

क्या कहते हैं डीएम?

-पीड़ितों का हाल जानने के लिए एसडीएम जमानिया और एडीएम मौके पर पहुंचे थे।

-इन पीड़ितों में दो परिवारों का सबकुछ जल गया है।

-उनके लिए प्राथमिक विद्यालय में रहने की व्यवस्था की गई है।

-शासन स्तर से उन पीड़ितों को आवास की भी व्यवस्था काराई जाएगी।

यह भी पढ़ें...आश्रम में लगी आग, कमरे में साधना कर रहे महंत की दर्दनाक मौत

Admin

Admin

Next Story