Top

बुलंदशहर गैंगरेप: आंखों के सामने से हट नहीं रहा है वो खौफनाक मंजर

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 1 Aug 2016 11:02 AM GMT

बुलंदशहर गैंगरेप: आंखों के सामने से हट नहीं रहा है वो खौफनाक मंजर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा: उसका जिक्र आते ही जहन सिहर उठता है। खौफनाक मंजर आंखों के सामने से हट नहीं रहा है। लेकिन चाहकर भी कुछ नहीं कर सकते थे। चाचा को गन प्वाइंट पर लिया था। मार रहे थे। धमकी मिल रही थी। सिर से लेकर पांव तक सिर्फ कंपकपी थी। मैं बात नहीं करना चाहता उस रात की घटना की। मुझे आप लोगों से भी बात नहीं करनी। पूरी फैमली परेशान हैं और आप लोग भी परेशान मत करो। यह बातें बुलंदशहर गैंगरेप और लूटकांड के पीड़ित परिवार के भतीजे ने कहीं। वह इस लायक भी नहीं कि उस घटना के बारे में ठीक से बात कर सके।

परिवार को मत करो परेशान

भतीजे ने दबी आवाज में कहा कि जब सब होंगे तब मैं खुद बुलाकर सबको बता दूंगा क्या हुआ उस रात को। अभी परेशान मत करो। पूरा परिवार परेशान है। फ्रस्टेट है। पता नहीं कितने फोन और कितने लोग पूछताछ करेंगे। आखिर हम क्यों गए वहां।

घर में लगा ताला

बुलंदशहर मामले में विक्टिम का पूरा परिवार खोड़ा में रहता है। बताया गया कि रविवार रात परिवार के कुछ लोग आए, लेकिन सुबह पुलिस फिर से उन्हें किसी गोपनीय स्थान पर ले गई। पीड़ित के बड़े भाई अब भी नोएडा में है। उसमें उनका भतीजा भी यही है। जो उस रात कार में परिवार के साथ था। जो बात सुनते ही सिहर उठता है। उसके जहन में सिस्टम के प्रति गुस्सा भी साफ देखा जा सकता है।

पहुंची महिला आयोग की टीम

गोपनीय तरीके से महिला आयोग की टीम सोमवार को पीड़ित के बड़े भाई के यहा गई। यहां उन्होंने पीड़ित के भतीजे से बातचीत की। कुछ तथ्य लिए और चली गई। गांव के महौल की बात करे तो सब शांत है कोई भी बातचीत को तैयार नहीं है। लेकिन गांव परिवार के साथ खड़ा दिख रहा है।

खुद की थी एसेंट कार

जिस कार से पीड़ित परिवार बुलंदशहर की ओर गया था। वह पीड़ित की है। वह करीब ढाई साल से खोड़ा में किराए पर रह रहा था। बेटी खोड़ा में ही नौवीं क्लास की स्टूडेंट है। पिता कैब ड्राइवर है। कार किसी कंपनी में लगी हुई है। घटना के बाद से पीड़ित परिवार सामने नहीं आना चाहता। वह इंसाफ चाहता है।

Newstrack

Newstrack

Next Story