×

Hamirpur : यहां फैला फाइलेरिया, सुमेरपुर के टेढ़ा गांव में मरीजों की संख्या सबसे ज्यादा

Hamirpur : सुमेरपुर ब्लाक में फाइलेरिया से ग्रसित मरीजों की संख्या 278 है। इनमें 29 मरीज अकेले टेढ़ा गांव के हैं।

Ravindra Singh
Published on 7 Dec 2021 3:58 AM GMT
filariasis patient
X

फाइलेरिया ग्रसित मरीजों की काउंसिलिंग

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Hamirpur : हमीरपुर में फाइलेरिया उन्मूलन अभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सुमेरपुर(Sumerpur) ब्लाक के सर्वाधिक प्रभावित टेढ़ा गांव का भ्रमण कर स्थिति की जांच-पड़ताल की। टीम ने मरीजों और आशा कार्यकर्ताओं की काउंसिलिंग की। आशा कार्यकर्ताओं (ASHA Karyakarta) को मरीजों की देखरेख को लेकर एमएमडीपी किट (MMDP Kit) का भी वितरण किया। ग्रामीणों को जागरूक कर फाइलेरिया से बचाव (filariasis prevention) लेकर दवा खाने को प्रेरित किया।

सुमेरपुर ब्लाक में फाइलेरिया से ग्रसित मरीजों की संख्या 278 है। इनमें 29 मरीज अकेले टेढ़ा गांव के हैं। ज्यादातर को हाथ और पैर में फाइलेरिया(filariasis caused by) की शिकायत है। सोमवार को जिला मलेरिया अधिकारी आरके यादव, पीसीआई के जिला समन्वयक पीएस कटियार ने गांव का भ्रमण कर मरीजों और आशा कार्यकर्ताओं(ASHA Workers) की काउंसिलिंग की। आशा कार्यकर्ताओं के साथ गांव का भ्रमण किया। मरीजों से यह जानने का प्रयास किया कि उनके घर में उनके अलावा और किसी को तो फाइलेरिया की शिकायत नहीं है।

मरीजों का उपचार

भ्रमण के बाद टीम ने गांव के उपकेंद्र में आशा कार्यकर्ताओं(ASHA Workers) को मरीजों की देखरेख को लेकर एमएमडीपी किट का वितरण किया। आशा कार्यकर्ताओं को बताया गया कि उन्हें किस प्रकार से मरीजों का उपचार करना है।

जिला मलेरिया अधिकारी आरके यादव ने बताया कि गांव में आशा कार्यकर्ता(ASHA Workers) घर-घर जाकर लोगों को फाइलेरिया से बचाव की दवा खिला रहे हैं। दवा खाने के बाद किसी को मामूली रियेक्शन हुआ भी तो वो कुछ मिनट बाद स्वत: ठीक हो गया।

पीसीआई के जिला समन्वयक पीएस कटियार ने भी लोगों को फाइलेरिया को लेकर व्याप्त भ्रांतियों को दूर किया और झाड़-फूंक से बचते हुए उपचार कराने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि फाइलेरिया ग्रसित मरीज (filariasis patient) साल में चार बार 12-12 दिन का दवा का कोर्स करे तो फाइलेरिया के संक्रमण को रोका जा सकता है। इस दौरान गांव की एएनएम रीता सोनी भी मौजूद रही।


Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story