×

रेस्क्यू ऑपरेशन: 12 फीट लंबे मगरमच्छ को पकड़कर वेतवा नदी में छोड़ा

जालौन में शनिवार को मगरमच्छ गांव में घूस आया, जिसके बाद ग्रामीणों में दहशत है...

Afsar Haq

Afsar HaqWritten By Afsar HaqRagini SinhaPublished By Ragini Sinha

Published on 14 Aug 2021 6:10 PM GMT

Crocodile rescue in jalaun
X

जालौन में मगरमच्छ का रेस्क्यू 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

जालौन में शनिवार को उस समय हाहाकार मचा जब तालाब से निकलकर मगरमच्छ गांव में घुस आया। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची वन विभाग की टीम ने ग्रामीणों के साथ मिलकर कड़ी मशक्कत के बाद उसे पकड़कर बेतवा नदी में ले जाकर छोड़ा गया।

4 घंटे तक चला रेस्क्यू

जानकारी के मुताबिक, जालौन के एट थाना क्षेत्र के ग्राम ईगुई कला में गांव के बाहर बने तालाब से निकलकर मगरमच्छ गांव में घुस गया। करीब 4 घंटे का रेस्क्यू ऑपरेशन चलाने के बाद 12 फीट लंबे मगरमच्छ को रस्सियों के सहारे पकड़कर बेतवा में छोड़ा।

पहले भी मगरमच्छ गांव में घूस आए

इससे पहले घोरावल थाना क्षेत्र के महांव गांव में बृहस्पतिवार को एक विशालकाय मगरमच्छ ने ग्रामीणों में अफरा तफरी मचा दी। पहले मगरमच्छ गांव से सटे पहाड़ी पर पहुंचा। वहां एक बकरी को मुंह में जकड़कर पहाड़ी के पास स्थित कुएं में घुस गया। यह देख ग्रामीणों में हड़कंप मच गया। वन कर्मियों ने कड़ी मशक्कत के बाद किसी तरह मगरमच्छ को बाहर निकाल कर कब्जे में लिया, तब जाकर ग्रामीणों ने राहत की सांस ली। मगरमच्छ को बेलन नदी के गहरे इलाके में ले जाकर छोड़ दिया गया है। इस वाकया के बाद बेलन नदी के तटवर्ती इलाके में स्थित गांव में भय की स्थिति बन गई है।

मगरमच्छों का आतंक घोरावल इलाके के दर्जनों गांव में ग्रामीणों की नींद उड़ाए हुए है। आए दिन कहीं न कहीं मगरमच्छ के निकलने के साथ ही लोगों पर हमला बोलने का सिलसिला शुरू होने से खौफ की स्थिति बनती जा रही है। बृहस्पतिवार की सुबह 10 बजे के करीब महांव ग्राम पंचायत के मनिकबर टोला में चल रही बकरियों और भेड़ों के बीच 10 फीट लंबे मगरमच्छ के घुसने से हड़कंप मच गया। ग्रामीण कुछ कर पाते, इससे पहले मगरमच्छ वहां चर रही एक बकरी को मुंह में जकड़कर खींचते हुए नागेश्वर पाल के घर के पास स्थित कुएं में घुस गया।

Ragini Sinha

Ragini Sinha

Next Story