×

इलाज में लापरवाही का आरोप: महोबा में मरीज की मौत पर जमकर हंगामा, घंटों से लगा है जाम

महोबा जिले के चरखारी सामुदायिक स्वास्थ केंद्र में इलाज के दौरान एक युवक की मौत हो गयी। इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए परिजनों ने जमकर हंगामा किया और मंडी तिराहे पर शव रखकर जाम लगा दिया है।

Imran Khan

Imran KhanReport Imran KhanAshikiPublished By Ashiki

Published on 4 Sep 2021 4:50 PM GMT

Mahoba
X

सड़क पर बैठे लोग 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

महोबा: यूपी के महोबा जिले के चरखारी सामुदायिक स्वास्थ केंद्र में इलाज के दौरान एक युवक की मौत हो गयी। इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए परिजनों ने जमकर हंगामा किया और मंडी तिराहे पर शव रखकर जाम लगा दिया है। जाम से बड़ी संख्या में वाहन फंसे है वहीं परिजन व स्थानीय लोग डॉक्टर के खिलाफ मुकदमा लिखे जाने की मांग क़र रहे हैं। मौके पर आलाधिकारियों सहित भारी पुलिस बल तैनात है।

चरखारी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 20 वर्षीय युवक की मौत के बाद पोस्टमार्टम करा कर लौटे परिजनों ने मंडी तिराहा में शव रखकर जाम लगाया और इलाज में देरी का आरोप लगाकर डॉक्टर के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने की मांग की। मोहल्ला शेखनफाटक निवासी 20 वर्षीय नवयुवक पवन की अचानक तबीयत खराब हो गई थी, जिसको परिजन इलाज हेतु सामुदायिक स्वास्थ केंद्र लेकर आए थे जहां चिकित्सक ने जांच के उपरांत युवक को मृत घोषित कर दिया। लेकिन परिजनों ने इलाज में देरी का आरोप लगाकर हंगामा शुरू कर दिया साथ ही तोड़फोड़ कर दी।


पुलिस ने मामला शांत कराते हुए शव का पोस्टमार्टम कराया और परिजनों को सौंप दिया, लेकिन परिजनों ने बजाए अंतिम संस्कार करने के मंडी चौराहा पर लाश को रखकर जाम लगा दिया। साथ ही डॉ विनय पटेल के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने की मांग की। परिजनों का कहना है कि अस्पताल में तक़रीबन एक घंटे तक डॉक्टर मरीज को देखने तक नहीं आये और तड़पते हुए मरीज ने दम तोड़ दिया।


पिछले तीन घण्टे से परिजन व सैकड़ों स्थानीय लोग लाश के साथ जाम लगाए हैं। सुचना पर भरी पुलिस बल तैनात है। वहीं परिजन आरोपी डॉक्टर के खिलाफ मुकदमा लिखे जाने, मुआवजा साथ ही डीएम को मौके पर बुलाये जाने की मांग कर रहे हैं। परिजनों ने डॉक्टर पेर इलाज में देरी का आरोप लगाया है और कहा के युवक काफी देर अस्पताल में तड़पता रहा लेकिन डॉक्टर नहीं आये। उप जिलाधिकारी चरखारी रमेश कुमार एवं सीओ उमेश चंद्र के द्वारा परिजनों को काफी समझाने का प्रयास किया गया लेकिन जाम नहीं खुलवा सके। वहीं सुचना मिलते ही चरखारी विधायक बृजभूषण राजपूत मौके पर पहुँच गए और परिजनों को समझाने का प्रयास किया लेकिन जाम नहीं खुल सका है।

Ashiki

Ashiki

Next Story