Top

बैंक में नौकरी के नाम पर ठगे हजारों रुपए,फिर रखी हमबिस्तर होने की शर्त

Admin

AdminBy Admin

Published on 31 March 2016 6:58 AM GMT

बैंक में नौकरी के नाम पर ठगे हजारों रुपए,फिर रखी हमबिस्तर होने की शर्त
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बरेली: अभी तक आपने नौकरी दिलाने के नाम हुई ठगी के तो कई मामले सुने या देखें होंगे लेकिन इस बार एक बेहद शर्मनाक मामला सामने आया है। दरअसल, नौकरी दिलाने के नाम पर युवती से पहले हजारों रुपए तो ठगे ही बाद में हमबिस्तर होने की शर्त रखी गई। यह मामला बरेली जिले का है।

पीड़िता ने मामले की जानकारी डीआईजी आशुतोष कुमार को देते हुए न्याय की गुहार लगाई, जिसके बाद इस संवेदनशील मामले पर सख्त रुख अख्तियार करते हुए डीआइजी ने कोतवाली इंस्पेक्टर को मुकदमा दर्ज करने का निर्देश दिया है।

क्या है पूरा मामला

-पीड़िता आंवला की रहने वाली है।

-पीड़िता के अनुसार, 4 मार्च को मोबाइल पर पहले एक मैसेज और फिर एक कॉल आया।

-फोन कर पीड़िता से पूछा गया कि आप किस सेक्टर में जॉब करना चाहती हैं।

-पीड़िता के बैंकिंग सेक्टर बताने के बाद उसके सामने एचडीएफसी बैंक में नौकरी की बात कही गई।

-पीडिता ने 6 मार्च को साइन डॉट कॉम वेबसाइट के ईमेल एड्रेस पर अपने दस्तावेज भेज दिए।

-8 मार्च को पीड़िता के सामने सुरक्षा निधि के नाम पर ढाई हजार रुपए की मांग की गई।

-पीड़िता ने बरेली के अतुल कुमार के खाते में रुपये ट्रांसफर कर दिऐ।

-9 मार्च को फिर से इंटरव्यू के पहले तत्काल ढाई हजार रुपए की मांग की गई।

-पीड़िता ने ये रुपए भी जमा करवा दिए।

इंटरव्यू के बाद हुआ पीड़िता का चयन

-पीड़िता का आधे घंटे का इंटरव्यू चला।

-पीड़िता को बताया गया कि ट्रेनिंग के समय 22 हजार और बाद में 30 हजार उसका वेतन होगा।

-इंटरव्यू में चयनित होने की सूचना साइन डॉट कॉम की तरफ से एक घंटे बाद पीड़िता को फोन पर मिल गई।

-नौकरी के बांड साइन करने के लिए उससे फिर 6 हजार 500 रुपये जमा कराए गए।

पीड़िता को मिला ऑफर लेटर

-ट्रेनिंग के दौरान अस्थाई खाता खोलने के लिए पीड़िता के अंगूठे के निशान, एड्रेस प्रूफ सहित 5 हजार रुपये खाता के लिए जमा कराए गए।

-पीड़िता के ईमेल पर ऑफर लेटर भी भेज दिया गया.

-अगली सुबह एक अन्य नम्बर से आए फोन में कोरियर खर्च के लिए 3800 रुपये जमा कराए गए, लेकिन कोरियर नही आया।

-जब पीड़िता ने नम्बरों पर संपर्क किया तो छुट्टी होने का हवाला देकर इन्तजार करने के लिए कहा गया।

-इसके बाद पीड़िता बराबर आगे का समय दिया जाने लगा।

पीड़िता के सामने रखी गई हमबिस्तर होने की शर्त

-28 मार्च को पीड़िता के कॉल करने पर एक व्यक्ति ने फोन उठाकर शाम 5 बजे तक कोरियर आने की बात कही.

-इस व्यक्ति ने अपना नाम सौरभ शर्मा बताया और कहा कि मैंने आपको बरेली में देखा है।

-उसने बताया कि मैं एचडीएफसी बैंक में टेरिटरी मैनेजर हूं।

-व्यक्ति ने कहा कि आपको नौकरी पाने के लिए थोड़ा कम्प्रोमाइज करना पड़ेगा।

-विस्तार में पूछने पर व्यक्ति ने कहा कि आपको मेरे साथ एक रात ईस्ट लाईट होटल बरेली में हमबिस्तर होना पड़ेगा।

-जब पीड़िता ने मना कर दिया तो आरोपी ने उसे जान से मारने की धमकी देते हुए कॉल कट कर दिया।

-इसके बाद न तो कोई मेल आया और न ही कोई कोरियर।

-अब तो कॉल भी रिसीव हो रही है।वहीँ कुछ नंबर स्विच ऑफ जा रहे हैं।

Admin

Admin

Next Story