×

केंद्रीय कैबिनेट की बैठक हुई तो हल हो सकती है मंदिर की समस्या: नरेंद्र गिरी

यदि चर्चाओं को मूर्त रूप मिला और केंद्रीय मंत्री मण्डल की बैठक कुंभ में होती है तो केंद्रीय मंत्रिमंडल के सदस्य बैठक में हिस्सा लेने के बाद संगम में पुण्य की डुबकी लगाएंगे साथ ही किला स्थित अक्षयवट, सरस्वती कुण्ड और बड़े हनुमान मंदिर का दर्शन भी करेंगे। इसके अलावा संतों से मुलाकात भी करेंगे।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 7 Feb 2019 3:03 PM GMT

केंद्रीय कैबिनेट की बैठक हुई तो हल हो सकती है मंदिर की समस्या: नरेंद्र गिरी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

आशीष पाण्डेय,

कुंभ नगर: गुरूवार को प्रयागराज पंचकोषीय परिक्रमा पर गंगा पूजन के पूर्व इसकी जानकारी देते हुए अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी से जब केंद्रीय कैबिनेट की मीटिंग को लेकर कुछ पत्रकारों ने पूछा तो उन्होंने कहा कि कुछ दिन पूर्व ही दिव्य कुंभ भव्य कुंभ की दिव्यता और भव्यता पर तब चार चांद लग गया जब योगी की कैबिनेट ने कुंभ में कैबिनेट मीटिंग की।

ये भी पढ़ें— योगी सरकार के बजट में बहराइच को तोहफा, जगी पर्यटन की आस

इस मीटिंग में प्रयागराज को कई तोहफे मिले जिसमें सबसे कीमती तोहफा गंगा एक्सप्रेस वे है। वैसे तो कुंभ में सभी का स्वागत है। सभी को आना चाहिए लेकिन यदि केंद्र की मोदी सरकार की कैबिनेट मीटिंग होती है तो संतों को ऐसी आशा है कि इस बैठक में अयोध्या में राम लला के भव्य मंदिर निर्माण की समस्या हल हो सकती है और इसे गति मिल सकती है। फिलहाल आने का कोई निश्चित कार्यक्रम है या नहीं यह बताने में वह परहेज कर गए और कहा कि यदि कोई कार्यक्रम तय होता है तो सूचना दे दी जाएगी।

ये भी पढ़ें— कांग्रेस ने बजट को बताया निराशाजनक, मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा…

चर्चा है कि 18 फरवरी को प्रधानमंत्री का वाराणसी में कार्यक्रम प्रस्तावित है। उस दौरान पीएम मोदी का यहां का भी कार्यक्रम हो सकता है लेकिन प्रोटोकाल के चलते इस पर अभी कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं लेकिन इसको लेकर सुगबुगाहट चल रही है। बता दें कि भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह 13 फरवरी को कुंभ मेला क्षेत्र में आएंगे। वह यहां कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। वह सभी 13 अखाड़ों के प्रतिनिधियों के साथ पावन संगम में डुबकी लगाएंगे। इसके बाद संतों का आशिर्वाद भी लेंगे। वह कुंभ के मद्देनजर शहर में कराए गए स्थायी कार्यों को भी देखेंगे। पता चला है कि भाजपा प्रमुख शाह इस दौरान पीएम मोदी के कार्यक्रम की तैयारियों की भी समीक्षा करेंगे।

ये भी पढ़ें— पुरानी पेंशन के हड़ताल में बिजली कर्मियों ने दिया समर्थन

बैठक के बाद मंत्रीमंडल के सदस्य लगाएंगे संगम में डुबकी

यदि चर्चाओं को मूर्त रूप मिला और केंद्रीय मंत्री मण्डल की बैठक कुंभ में होती है तो केंद्रीय मंत्रिमंडल के सदस्य बैठक में हिस्सा लेने के बाद संगम में पुण्य की डुबकी लगाएंगे साथ ही किला स्थित अक्षयवट, सरस्वती कुण्ड और बड़े हनुमान मंदिर का दर्शन भी करेंगे। इसके अलावा संतों से मुलाकात भी करेंगे। वैसे बैठक हो या ना हो लेकिन इसके पहले ही केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, वीके सिंह, निरंजन ज्योति, डॉ. हर्षवर्धन कुंभ में पुण्य की डुबकी लगा चुके हैं और लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन भी कुंभ में आ चुकी हैं।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story