Top

केंद्र सरकार 300 करोड़ रुपए खर्च कर UP की इन जगहों को करेगी डेवलप

By

Published on 11 Jun 2016 1:37 PM GMT

केंद्र सरकार 300 करोड़ रुपए खर्च कर UP की इन जगहों को करेगी डेवलप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: यूपी में विधान सभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार राम, कृष्ण और गौतम बुद्ध के नाम पर प्रदेश भर में तीन सौ करोड़ रुपए की योजना से यूपी टूरिज्म को बढ़ावा देने जा रही हैं। पर्यटन विभाग ने केंद्र सरकार की स्वदेश दर्शन योजना के तहत इन्हें विकसित करने का फैसला किया है। यह जानकारी पर्यटन सचिव (भारत सरकार) विनोद जुत्शी ने लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान दी।

up-tourism प्रेस कांफ्रेसं में बातचीत करते पर्यटन सचिव विनोद जुत्शी

पर्यटन सचिव ने कहा

-पर्यटन सचिव विनोद जुत्शी ने बताया कि प्रदेश में टूरिज्म बढ़ाने के लिए तीन महत्वपूर्ण सर्किट का निर्माण किया जाएगा।

-जिसमें से राम के जन्म और कर्म से जुड़े स्थानों को पर्यटन की दृष्टी से आकर्षक बनाने के लिए रामायण सर्किट, कृष्ण के जन्म और कर्म से जुड़े स्थानों को कृष्ण सर्किट और बौद्ध धर्म के प्रणेता गौतम बुद्ध के जन्म कर्म से जुड़े स्थानों को बौद्ध सर्किट नाम दिया गया है।

-विनोद जुत्शी ने कहा कि भारत में टूरिज्म की ग्रोथ संतोष जनक है।

-जब पूरे विश्व की टूरिज्म ग्रोथ रेट 4.5 फीसदी हैं ऐसे में भारत में टूरिज्म 10.7 फीसदी की दर से बढ़ रहा है।

-वहीँ टूरिज्म से हर साल 1 करोड़ 30 लाख रूपए की अर्निंग हो रही हैं।

यह भी पढ़ें ... BHU में बोले टूरिज्म मिनिस्टर- JNU केस से इंडिया में टूरिज्म को धक्का

बुद्धा सर्किट

-बुद्धा सर्किट के अंतर्गत उन जगहों को चिन्हित किया गया है जहां पर बुद्ध से जुड़ी कुछ ऐतिहासिक चीजें हैं।

-इसमे गौतम बुद्ध का जन्म स्थान, कर्म स्थान आदि शामिल हैं।

-पर्यटन सचिव विनोद जुत्शी ने बताया कि बौद्ध सर्किट के लिए चार प्लेस को चिन्हित किया गया हैं।

-जिसमें सारनाथ, श्रावस्ती, कुशीनगर और कपिलवस्तु हैं।

-इन सभी स्थानों पर 100 करोड़ रूपए खर्च कर डेवलप करने की योजना हैं।

-इसमें बुद्धा से जुडी हुई डॉक्यूमेंट्री गैलरी भी बनानी हैं। इसके अलावा साउंडेड लाइट शो बनाया जाएगा।

-टूरिस्ट फैसिलिटी सेंटर बनाये जाएंगे। बुद्ध सर्किट को ग्लोबल सर्किट बनाने पर काम चल रहा हैं।

रामायण सर्किट

-रामायण सर्किट में मुख्य रूप से वे सभी भाग आते है, जिनके बारे में भगवान राम से जुडी गाथाएं हैं।

-इसके लिए अयोध्या, श्रृंगबेरपुर (इलाहबाद के पास) और चित्रकूट को शामिल किया गया हैं।

-प्रदेश में रामायण सर्किट से जुड़े महत्वपूर्ण घाटों पर शेल्टर होम, शेड, चेंजिंग रूम और टॉयलेट भी बनाया जाएगा।

-पंच कोशी परिक्रमा वाले रास्ते में होनी वाली असुविधाओं की कमी को दूर किया जाएगा।

-जबकि श्रृंगबेरपुर में एक रिवर फ्रंट भी विकसित किया जाएगा।

-हर तीर्थ स्थल पर साइनएज होगा जिस पर एक तरफ यूपी का लोगो और दूसरी तरफ इनक्रेडिबल इंडिया का लोगो होगा।

-चित्रकूट में लेज़र शो से वहां पर भगवान राम का इतिहास बताया जाएगा।

यह भी पढ़ें ... ‘प्रेम’ को नहीं TOURISM को महत्व, UP में 14 Feb. को मनेगा ‘टूरिज्म डे’

कृष्णा सर्किट

-कृष्णा सर्किट में मथुरा वृंदावन, गोवर्धन, नंदगांव को शामिल किया गया है।

-इसमें भगवान श्रीकृष्ण की गाथाओं से जुड़े स्थानों पर बुनियादी सुविधाओं से लेकर अत्याधुनिक सुविधाओं से लैश किया जाएगा।

-मथुरा में 15 करोड़ और वृंदावन में 10 करोड़ के प्रोजेक्ट मंदिरों, घाटों और अन्य पर्यटन स्थलों के विकास के लिए शुरू किए जाएंगे।

बनारस के घाटों पर चलेंगे क्रूज

पर्यटन सचिव विनोद जुत्शी ने बताया कि घाटों के लिए दुनिया भर में मशहूर बनारस में पर्यटकों के लिए किसी क्रूज की व्यवस्था नहीं है और न ही निजी क्षेत्र की कोई कंपनी अभी इस दिशा में आगे आ रही है इसलिए भारत सरकार क्रूज की व्यवस्था करने जा रही हैं। इसका खर्च भारत सरकार देगी और संचालन की जिम्मेदारी राज्य सरकार के उपक्रम की होगी।

Next Story