Top

राष्ट्रीय हैंडलूम दिवस समारोह में पहुंची स्मृति, बुनकरों को दिया उपहार

By

Published on 7 Aug 2016 10:51 AM GMT

राष्ट्रीय हैंडलूम दिवस समारोह में पहुंची स्मृति, बुनकरों को दिया उपहार
X
smriti irani in varanasi for national handloom day
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वाराणसीः केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी राष्ट्रीय हैंडलूम दिवस के मौके पर वाराणसी पहुंची। उन्होंने सबसे पहले बाबा विश्वनाथ के दर्शन पूजन किया, उसके बाद बीएचयू के स्वतन्त्रता भवन में आयोजित राष्ट्रीय हैंडलूम दिवस समारोह में पहुंची। इस मौके पर केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी ,अजय टम्टा और प्रदेश के हथकरघा मंत्री महबूब अली भी शामिल थे।

स्मृति ईरानी ने राष्ट्रीय हैंडलूम दिवस समारोह का उद्घाटन किया। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने बुनकरों को संत कबीर अवार्ड से सम्मानित किया। उन्होंने बुनकरों की सूची जारी की, जिसमें चुने गए बुनकरों को 3-3 लाख रूपए दिए जाएंगे। स्मृति ईरानी ने बुनकरों से हाजी मस्तान के घर पर बातचीत की।

smriti irani in varanasi फोटोः केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी बुनकरों से बात करते हुए

अब कपड़ा मंत्रालय से सीधा जुड़ेंगे बुनकर

बुनकरों के लिए केंद्र सरकार जल्द ही हेल्पलाइन शुरू करने जा रही है। हेल्पलाइन के माध्यम से देश का कोई भी बुनकर सीधे कपड़ा मंत्रालय से जुड़कर अपनी समस्या बता सकेगा। सरकार देश के सभी बुनकरों का रिकॉर्ड रखने के लिए राष्ट्रीय बुनकर गणना शुरू करने जा रही है।

एमओयू पर हुआ हस्ताक्षर

तीस सालों के इतिहास में पहली बार निफ्ट में हैंडलूम और हैंडीक्राफ्ट को शामिल किया जा रहा है। बुनकरों के बच्चों की शिक्षा अधूरी ना रहे इसके लिए एनआईओएस और इग्नू के साथ कपड़ा मंत्रालय ने एमओयू पर हस्ताक्षर किया। ई-कॉमर्स को ध्यान में रखकर अमेजन इंडिया के साथ भी एमओयू पर हस्ताक्षर किया गया। इसके साथ ही 6 बुनकर साझा केंद्र भी बुनकरों को समर्पित किए गए।

smriti irani in varanasi फोटोः केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और बुनकर संजय गर्ग

बुनकरों के लिए हथकरघा संवर्धन योजना

केंद्र बुनकरों के लिए हथकरघा संवर्धन योजना भी शुरू कर रहा है जिसके तहत एक आम बुनकर करघा और अन्य जरूरत की चीजें सिर्फ दस फीसदी पैसा देकर खरीद सकेगा बाकी नब्बे फीसदी पैसा केंद्र देगा। दूसरे हैंडलूम डे पर देश भर के चालीस बुनकरों को संत कबीर अवार्ड और राष्ट्रीय सम्मान से नवाज़ा गया।

Next Story