Top

केंद्र से यूपी ने कहा- नहीं चाहिए पानी, बस भेज दो 10 हजार टैंकर्स

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 5 May 2016 8:14 AM GMT

केंद्र से यूपी ने कहा- नहीं चाहिए पानी, बस भेज दो 10 हजार टैंकर्स
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ/झांसी: बीते दस साल से सूखे से प्रभावित यूपी के बुंदेलखंड के तमाम इलाकों में लोग पानी को तरस रहे हैं। वहीं, अब केंद्र और राज्‍य के बीच इस मुद्दे पर सियासत शुरू हो गई है। रेलवे ने 10 वैगन वाली एक ट्रेन रतलाम से बुधवार शाम झांसी भेज दी। इस ट्रेन के टैंकर खाली हैं, इन्‍हें साफ किया जाना है।

ट्रेन के झांसी पहुंचने की खबर मिलते ही यूपी सरकार ने ऐलान कर दिया कि बुंदेलखंड में पानी की कोई कमी नहीं है और पानी वाली ट्रेन नहीं चाहिए। कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने एक कदम और बढ़ाते हुए केंद्र पर ये आरोप जड़ दिया कि वो पानी को लेकर सियासत कर रहा है। सीएम अखिलेश यादव ने केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती को लेटर लिखकर बुंदेलखंड में जलाशयों से लोगों तक पानी पहुंचाने के लिए 10 हजार टैंकर उपलब्ध कराने का अनुरोध किया है।

यह भी पढ़ें... अब केंद्र सरकार बुझाएगी बुंदेलखंड की प्यास, ट्रेन से भेजेगी पानी

रेलवे ने क्‍या कहा -

-उत्‍तर-मध्‍य रेलवे के झांसी मंडल के पीआरओ गिरीश कंचन ने newztrack को बताया कि झांसी पहुंची ट्रेन के टैंकर खाली हैं।

-इन टैंकरों को साफ-सफाई के लिए यहां लाया गया है।

-जरूरत पड़ते ही टैंकरों को भरवाकर बुंदेलखंड में पानी की सप्‍लाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें...पीने के पानी को तरस रहा बुंदेलखंड, बच्‍चों ने किताब की जगह थामा घड़ा

मुख्‍य सचिव ने क्‍या कहा -

-यूपी के मुख्य सचिव आलोक रंजन ने गुरुवार को newztrack से कहा कि बुधवार को अधिकारियों के साथ हुई बैठक में बुंदेलखंड के लिए केंद्र से पानी नहीं लेने का फैसला किया गया।

-उन्होंने कहा कि बुंदेलखंड में पर्याप्त पानी है और किसी अन्य राज्य या केंद्र से लेने की जरूरत नहीं है।

-जरूरत पड़ने पर झांसी से महोबा पानी भेजा जाएगा।

-मुख्य सचिव ने कहा कि प्राकृतिक संसाधनों और टैंकरों से पानी भेजा जा रहा है।

-तालाब भरवाए गए हैं। चार सौ टैंकरों से पानी की सप्लाई की जा रही है।

डीएम बोले- भविष्‍य में जरूरत पड़ी तो लेंगे पानी

-बुंदेलखंड में लगभग 10 साल से सूखे के हालात हैं।

-अब तक 3500 से ज्यादा किसान खुदकुशी कर चुके हैं। इस साल 174 किसानों ने आत्महत्या की है।

-महोबा के डीएम वीरेश्वर सिंह ने केंद्र से पानी लेने से इनकार किया है।

-उन्होंने झांसी के डीआरएम को पत्र लिखा है कि पर्याप्त पानी है। भविष्य में जरूरत पड़ी तो पानी ले लेंगे।

शिवपाल ने क्‍या कहा?

-कानपुर में कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि केंद्र सरकार पानी को लेकर सियासत न करे।

-केंद्र ने पानी तो भेज दिया, लेकिन उन्हें रखने की कोई व्यवस्था नहीं है।

-बुंदेलखंड में किसी सूरत में पानी की कमी नहीं होने देंगे।

-भूख से किसी को मरने नहीं दिया जाएगा।

-अफसर लापरवाही करेंगे, तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।

बीजेपी प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने newztrack से कहा...

-अखिलेश अपनी हठधर्मिता के कारण बुंदेलखंड के लोगों को प्यासा मारना चाहते हैं।

-आपदा में कोई भी मदद करे तो उसे स्वीकार किया जाना चाहिए।

-सीएस आलोक रंजन ने बुधवार को समीक्षा बैठक में स्वीकार किया है कि बुंदेलखंड में भेजी गई सहायता पांच प्रतिशत तक ही सही लोगों तक पहुंची है।

-सीएम खुद बुंदेलखंड के हालात का जायजा लेने दो बार वहां जा चुके हैं।

-बुंदेलखंड के सवाल पर पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम अखिलेश यादव 7 मई को बैठक भी करेंगे।

सीएम ने ट्वीट कर मांगे टैंकर

-इस बीच यूपी के सीएम ने केंद्र सरकार से बुंदेलखंड के लिए 10,000 रोड टैंकर्स की मांग की है।

-उन्‍होंने ट्वीट कर केंद्र से टैंकर्स मांगे हैं।

Newstrack

Newstrack

Next Story