Top

प्रचारक बना आवारा कुत्ता: प्रधान बनाने की होड़ में उठाया ये कदम, अब हो रहा विरोध

राज्य सरकार ने कर्फ्यू लगाकर कोविड नियमों का शक्ति से पालन कराने का पुलिस को निर्देश दिया है।

Ashvini Mishra

Ashvini MishraReporter Ashvini MishraVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 6 May 2021 6:33 AM GMT

प्रत्याशी ने तो अपना प्रचार करने के लिए आवारा कुत्तों का उपयोग कर रहा है।
X

चुनाव प्रचार(फोटो-सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

चन्दौली: कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सरकार ने कर्फ्यू लगाकर कोविड नियमों का शक्ति से पालन कराने का पुलिस को निर्देश दिया है।जिसके बाद प्रत्याशी चुनाव प्रचार के लिए अनेक तरह के हथकंडे अपना रहे हैं,चुनाव जीतने के लिए अब आवारा कुत्तों का भी सहारा लिया जा रहा है।

चन्दौली जिले के नौगढ़ तहसील के परसहवा गांव में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के नामंकन के बाद प्रधान प्रत्याशी की मौत हो गई थी।जिसके बाद वहाँ चुनाव निरस्त कर 9 मई को मतदान के लिए तिथि निर्धारित किया गया है। चुनाव जीतने के लिए प्रचार कार्य जोरों पर है।

हर तरह के हथकंडे

चकरघट्टा थाने की पुलिस के द्वारा सख्ती के बाद अब प्रत्याशी अपने प्रचार के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपना रहे हैं। एक प्रत्याशी ने तो अपना प्रचार करने के लिए आवारा कुत्तों का उपयोग कर रहा है।

हालांकि कर्फ्यू के शक्ति के बावजूद जहां प्रत्याशी अपनी जीत के लिए कुत्तों का सहारा ले रहे हैं।कुत्तों के गले मे प्रचार सामग्री डालकर व उनके शरीर पर पोस्टर चिपका कर प्रचार कार्य किया जा रहा है।वहीं विपक्षी प्रत्याशी इसका विरोध भी कर रहे हैं, यहां तक कि राज्य निर्वाचन आयोग से भी इस प्रचार को लेकर शिकायत की गई है।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story