Top

AMAZING: 6th क्लास के स्टूडेंट ने लिखी बुक, पढ़कर शार्प होगी मेमोरी

shalini

shaliniBy shalini

Published on 10 May 2016 8:52 AM GMT

AMAZING: 6th क्लास के स्टूडेंट ने लिखी बुक, पढ़कर शार्प होगी मेमोरी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बरेली: हार्टमैन कॉलेज में छठी कक्षा में पढ़ने वाले देवायुष देवेंद्र ने मेमोरी बढ़ाने वाली स्पेल रेट्रो (SPELL RETRO) नाम की किताब लिखी है। 400 शब्दों से भरी इस किताब के हर शब्द और उसकी मिरर इमेज पढ़ने पर दोनों सार्थक अर्थ बनते हैं। आप एक शब्द का अर्थ याद करें, तो दूसरे शब्द का अर्थ अपने आप याद हो जाता है।

मेमोरी को शार्प करने में होगी मददगार

-देवायुष देवेंद्र को प्रेरणा देने के लिए केंद्रीय कपड़ा मंत्री संतोष गंगवार के साथ मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी से मिलने पहुंचे।

-इस मौके पर उनके पिता आशीष सक्सेना, मां दीपा सक्सेना और उनके बड़े भाई राजशेखर राजन भी मौजूद रहे।

-देवायुष के परिवार ने स्मृति ईरानी से किताब के विमोचन के लिए अनुरोध किया।

-मानव संसाधन विकास मंत्री ने देवायुष से यह भी पूछा कि इस किताब से दूसरे छात्रों को क्या फायदा होगा।

-उसने बताया कि हर छात्र यह चाहता है कि वह जितना पढ़े, वह कम से कम समय में याद हो जाए और उसकी स्मरण शक्ति बढ़ जाए।

-छात्रों को अगर ऐसी किताब पढ़ने को मिलेगी। तो उनकी सारी समस्याएं हल हो जाएंगी।

-मसलन LEG और GEL, LIVE और EVIL ऐसे ही 400 शब्दों को इस किताब में संकलित किया गया है।

asdawd

स्‍मृति ईरानी ने दी नई किताब के लिए शुभकामनाएं

-देवायुष के पिता आशीष सक्सेना ने बताया कि स्मृति ईरानी ने उनके बेटे से राष्ट्रीय स्तर पर लेखक के रूप में पहचान बनाने को कहा है।

-हिन्दी और संस्कृत भाषाओं में प्रयोग किए जा रहे शब्दों के आधार पर नई किताब लिखने के लिए भी शुभकामनाएं दी।

-प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित भी किया।

मात्र दो हफतों में लिख डाली किताब

-देवायुष ने बताया कि उसने दो हफ्ते में यह किताब लिखी है।

-पिछले साल दिसंबर में स्कूल में छपने वाली मैगजीन के लिए लेख लिख रहा था।

-उसने बताया कि उसका लेख पढ़ने के बाद शिक्षक शालिनी जुनेजा ने उससे इस पर किताब लिखने के लिए प्रेरित किया।

-इसके बाद उसे शब्दों का संग्रह शुरु किया और जनवरी में किताब लिख डाली।

shalini

shalini

Next Story