Top

कभी करते थे CM की आलोचना, आज अ‍खिलेश ने दी मंत्रिमंडल में जगह

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 27 Jun 2016 7:15 AM GMT

कभी करते थे CM की आलोचना, आज अ‍खिलेश ने दी मंत्रिमंडल में जगह
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

[nextpage title="next" ]

cm

लखनऊ: समाजवादी सरकार का 7वां मंत्रिमंडल विस्तार कई मायनों में दिलचस्प रहा। एक तरफ जहां इस विस्तार में उन मंत्रियों को जगह मिली जिन्हें सीएम ने खुद ही बर्खास्त करते हुए बाहर का रास्ता दिखाया था। वहीँ दूसरी तरफ उन नेताओं को भी जगह मिली जो खुलेआम सीएम अखिलेश यादव और उनके सरकार के काम काज की आलोचना कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें... बलराम-नारद समेत अखिलेश की कैबिनेट में शामिल 4 नए मंत्री

अब ऐसे में यह सवाल उठता है कि इस सातवें मंत्रिमंडल विस्तार में किसका प्रभाव है। सीएम अखिलेश यादव का या सपा सुप्रीमों मुलायम सिंह और उनके भाइयों का। फिलहाल, सीएम निंदक नियरे राखिये वाले सिद्धांत से दो-चार होने की कोशिश कर रहे हैं। सीएम ने आज उन मंत्रियों को अपने कैबिनेट में जगह दी जो कभी उनके आलोचक थे। आइए जानते हैं कि इन आलोचकों ने सपा और सीएम के लिए कब क्‍या बोला।

आगे की स्‍लाइड्स में पढ़ें नारद राय ने कब क्‍या दिया बयान...

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

narad-rai मंत्री पद की शपथ लेते नारद राय

नारद राय

खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री रहे नारद राय को बीते साल सीएम ने मंत्री पद से बर्खास्त कर दिया था। उन पर गुटबाजी का आरोप था, लेकिन चुनाव करीब आते ही बलिया से आने वाले नारद राय को मंत्रिमंडल में शामिल करना लोगों की समझ से परे है। इसके अलावा नारद राय भी लोकसभा चुनाव में भी कुछ खास नहीं कर पाए थे।

आगे की स्‍लाइड्स में जानेंं बलराम यादव को क्‍यों निकाला गया था...

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

balram-yadav

बलराम यादव

कौमी एकता दल के सपा में विलय की वकालत करने वाले मुलायम के खास सिपाही बलराम यादव को अखिलेश यादव ने मंत्रीमंडल से बर्खास्त कर दिया गया था। अखिलेश यादव बाहुबली मुख्तारअंसारी को पार्टी में लेने के सख्त खिलाफ थे। वहींं जानकारों की माने तो सीएम की बलराम यादव् से नाराजगी की वजह आजमगढ़ से उनके खिलाफ आने वाली शिकायतें थी। जिसके कारण उन्हें मंत्रिमंडल से बाहर का रास्ता दिखाया गया था। बाहर जाने के एक हफ्ते के भीतर उन्हें फिर से मंत्रिमंडल में जगह दी गई।

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

ravidas

रविदास मेहरोत्रा

लखनऊ मध्य से विधायक रविदास मेहरोत्रा सीएम के सबसे बाड़े निंदकों में से एक हैं। वे कभी किसी सरकारी संस्थान के विरुद्ध धरने में शामिल हो जाते हैं तो कभी अखिलेश को लेजर ऐसे बयान दे देते हैं कि सीएम की किरकिरी हो जाती हैंं। निंदा करने वाले इस एमएलए को सीएम ने अपने मंत्रिमंडल में जगह दी हैं। सियासी गलियारों में इस बात की चर्चा है कि सीएम ने अब निंदकों को भी अपने पास रखना शुरू कर दिया है। बताते चलें कि रविदास मेहरोत्रा यश भारती अवार्ड विजेताओं को पेंशन देने के नाम पर सपा सरकार के खिलाफ अवाज बुलंद करते हुए कहा था कि यूपी सरकार 50 हजार रुपये यश भारती अवार्ड विजेताओं को पेंशन बांट रही है वहीं बुदेंलखंड में किसानों को 300 रुपया मिलता है।

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

मोहम्मद जियाउद्दीन रिज़वी

बलिया के सिकंदरपुर से विधायक मोहम्मद जियाउद्दीन रिज़वी भी सीएम और सरकार के बड़े निंदकोंं मेंं से एक हैं। उन्हें सीएम ने 22 जून 2013 में ही सरकार के विरुद्ध बयानबाजी करने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी कर चुके हैं। मोहम्मद जियाउद्दीन को भी अखिलेश यादव ने अपने सातवें मंत्रिमंडल विस्तार में जगह दी है।

[/nextpage]

Newstrack

Newstrack

Next Story