×

CM अखिलेश हुए सख्त, अफसरों से बोले- काम नहीं करना तो पहनें नेताओं के कपड़े

सीएम अखिलेश यादव ने बुधवार को कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक के दौरान सख्त तेवर दिखाते हुए अफसरों से कहा कि आप लोग एक, दो या तीन बार ही एग्जाम में बैठेकर अफसर बने होंगे लेकिन हमें हर बार परीक्षा देनी पड़ती है। आप लोग ठीक काम करें तो सब आसान हो जाए। बैठक में मौजूद एक अफसर के मुताबिक, उन्होंने समय-समय पर सरकार के लिए असहज स्थिति खड़ी करने वाले अफसरों पर तंज कसते हुए कहा कि जो अफसर काम नहीं करना चाहते, वह नेताओं के कपड़े पहन लें और सामने आएं तो उनसे भी एक बार आमन-सामना हो जाए।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 7 Sep 2016 3:15 PM GMT

CM अखिलेश हुए सख्त, अफसरों से बोले- काम नहीं करना तो पहनें नेताओं के कपड़े
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: सीएम अखिलेश यादव ने बुधवार को कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक के दौरान सख्त तेवर दिखाते हुए अफसरों से कहा कि आप लोग एक, दो या तीन बार ही एग्जाम में बैठेकर अफसर बने होंगे लेकिन हमें हर बार परीक्षा देनी पड़ती है। आप लोग ठीक से काम करें तो सब आसान हो जाए। बैठक में मौजूद एक अफसर के मुताबिक, सीएम अखिलेश ने समय-समय पर सरकार के लिए असहज स्थिति खड़ी करने वाले अफसरों पर तंज कसते हुए कहा कि जो अफसर काम नहीं करना चाहते, वह नेताओं के कपड़े पहन लें और सामने आएं तो उनसे भी एक बार आमना-सामना हो जाए।

यह भी पढ़ें ... CM अखिलेश ने अफसरों से कहा- कानून-व्यवस्था को लेकर लापरवाही नहीं होगी बर्दाश्त

अगर मैं ऐसा कर सकता हूं तो आप क्यों नहीं ?

सीएम अखिलेश ने अपने जनता दरबार का जिक्र करते हुए कहा कि आप लोग देखिए मैं कैसे लोगों से मिलता हूं, उनको सम्मान देता हूं और उनकी समस्याएं सुनता हूं। अगर मैं ऐसा कर सकता हूं तो आप लोग ऐसा क्यों नहीं कर सकते हैं ?

यह भी पढ़ें ... SO ने लिखा- साहब मैं सपा MLA के इशारों पर नहीं नाच सकता, मुझे हटवा दो

राहुल गांधी की खाट सभा का भी जिक्र

बताया जा रहा है कि इसी बीच कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का जिक्र करते हुए सीएम अखिलेश ने कहा कि देवरिया सभा में आए लोग खाट लेकर चले गए। अगर यह हमारी पार्टी का कार्यक्रम होता तो कहा जाता कि सपाई गुंडई कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें ... राहुल की पंचायत का कुछ ऐसा हुआ हाल, किसानों ने लूट लिए खाट

डीजीपी ने बीच में ही छोड़ दिया अपना संबोधन

बैठक में मौजूद एक अधिकारी ने बताया कि डीजीपी जावीद अहमद ने जब अपना संबोधन शुरू किया तो थोड़ी देर बाद ही चीफ सेक्रेटरी दीपक सिंघल ने उन्हें बैठने को कहा। इसके बाद वह अपना संबोधन बीच में ही छोड़कर बैठ गए।

यह भी पढ़ें ... UP सरकार की हृदय रोगियों को सौगात, एडवांस एम्बुलेंस से उन्हें पहुंचाया जाएगा हॉस्पिटल

चीफ सेक्रेटरी के सवाल पर अफसरों के चेहरों पर उड़ी हवाइयां

-कार्यक्रम में मौजूद अधिकारियों से एक-एक कर चीफ सेक्रेटरी दीपक सिंघल ने मुलाकात की और उनका परिचय लिया।

-लंच के बाद उन्होंने कुछ घटनाओं का जिक्र करते हुए संबंधित अधिकारी से पूछा कि उन्होंने इस पर क्या किया।

यह भी पढ़ें ... लैपटॉप बांट सत्ता में आई सपा सरकार का नया फंडा, रजिस्ट्रेशन अभी, जीते तो देंगे स्मार्टफोन

चार साल में गैंगेस्टर के तीन मामलों में जमीन की अटैच

सूत्रों के अनुसार, चीफ सेक्रेटरी दीपक सिंघल ने हॉल में मौजूद अधिकारियों से पूछा कि उन्होंने गैंगेस्टर के कितने मामलों में अभियुक्तों की जमीन अटैच की है। इस पर हॉल में सन्नाटा छा गया। जानकारी आई कि चार साल में गैंगेस्टर के कुल तीन मामलों में ही जमीन अटैच की गई, जबकि बसपा सरकार में यही संख्या हजार के करीब थी।

यह भी पढ़ें ... ADO से बोला सपा MLA का चाचा- मेरा काम नहीं किया तो काट लूंगा तेरी गर्दन

दीपक सिंघल ने कुछ गंभीर प्रकरणों का जिक्र करते हुए कहा कि इस मामले में एनएसए क्यों नहीं लगाया गया। ऐसे मामलों में एफआईआर दर्ज होने के अगले दिन ही एनएसए लगाया जाना चाहिए। जिससे जनता के बीच संदेश जाए कि कानून व्यवस्था को लेकर सरकार कोई कोताही नहीं बरत रही है और इससे असामाजिक तत्वों में भय पैदा हो।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story