×

CM योगी ने कानपुर गल्ला मंडी का किया औचक निरिक्षण ,किसानों से पूछा बिचौलिए पैसे तो नहीं मांगते

Anoop Ojha

Anoop OjhaBy Anoop Ojha

Published on 16 Nov 2018 10:40 AM GMT

CM योगी ने कानपुर गल्ला मंडी का किया औचक निरिक्षण ,किसानों से पूछा बिचौलिए पैसे तो नहीं मांगते
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

कानपुर: सीएम योगी शुक्रवार को पूरी तरह से एक्शन के मूड में नजर आये।सीएम योगी ने अचानक नौबस्ता नवीन गल्ला मंडी पहुंचे और धान क्रय केंद्र में किसानों से सीधे बात करते हुए पूछा बिचौलिए पैसे की मांग तो नहीं करते हैं। धान बेचने में किसी तरह की समस्या तो नहीं आ रही है और अधिकारी परेशान तो नहीं कर रहें है। जब किसानों ने उनकी सभी बातों का जवाब दिया तो पूरी तरह से संतुष्ट नजर आये।सीएम के औचक निरिक्षण से जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन में हडकंप मच गया।

यह भी पढ़ें ......शाहजहांपुर: बेखौफ बदमाशों ने मंडी गेट से गल्ला व्यापारी से आठ लाख रुपए लूटे

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जब गल्लामंडी का औचक निरिक्षण किया तो पूरे महकमे में अफरा तफरी मच गयी। गल्लामंडी में धान क्रय केंद्र पहुंच कर किसानों से उनका हाल जाना। सीएम योगी ने कहा कि हमारा उद्देश्य है कि किसानों की आय में वृद्धि की जा सके।इस बार भी यह व्यवस्था लागू की गयी है। मैंने इस बारे सभी जिलाधिकारी और मंडलायुक्त को निर्देश दिया है कि इस बात की मानिटरिंग करें कि इस बार का जो एम्एसपी है 1750 रुपये और 1770 रुपये है। प्रदेश में हम 20रु प्रति किसान को अतिरिक्त दे रहे हैं। इसे ध्यान में रखते हुए कही भी किसानों का शोषण नहीं हो।

यह भी पढ़ें ......Newstrack.com ने खोली सरकारी दावों की पोल, डीएम के इंस्‍पेक्‍शन में भी हुआ खेल

सीएम योगी ने कहा कि किसानों को कोई परेशानी नहीं होने पाए। अब किसान धान काट कर खेतों से मार्केट में लाना चाहते है क्रय केंद्र प्रारंभ हो सके। मंडियों में भी उनकों सुविधा जनक व्यवस्था मिल सके। किसान को न्यूनतम समर्थन मूल्य से अधिक दाम मिल सके। इसी लिए मै यहाँ की सबसे बड़ी मंडी में निरिक्षण करने के लिए आया हूँ। यहाँ पर रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया चल रही है।

यह भी पढ़ें ......UP कैबिनेट : धान विक्रय से पूर्व किसान पंजीयन ऑनलाइन प्रक्रिया भी चालू

मंडियों को भी यह निदेश दिए गए है कि नीलामी की जाये लेकिन किसानों के न्यूनतम मूल्य से कम दाम किसानों को न मिले। इससे जुडी जो संस्थाए है, मार्केटिंग है ,मंडी है, एफ़सीआई है उसमें यह मेरा पहला निरिक्षण है। रिकार्ड मात्रा में धान का क्रय हो और किसान को समर्थन मूल्य देने में हम लोग सफल हो पायेगें। एम्एसपी की घोषणा के बाद जो नया एम्एसपी घोषित हुआ है उससे किसानों को बहुत लाभ मिलेगा।

Anoop Ojha

Anoop Ojha

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story