×

Sonbhadra News: कोल तस्करों के सिंडीकेट ने सीज पड़े अवैध भंडारण से उड़ाया करोड़ों का कोयला, चार गिरफ्तार

Sonbhadra News: कृष्णशीला रेलवे साइडिंग के पास बांसी गांव में एनसीएल की जमीन पर 32 बीघे एरिया में डंप पाए गए अवैध कोल भंडारण से करोड़ों का कोयला गायब होने के बाद हड़कंप मच गया है।

Kaushlendra Pandey
Updated on: 10 Aug 2022 1:55 PM GMT
Coal smugglers syndicate in Sonbhadra blew coal worth crores from illegal storage, four arrested
X

सोनभद्र: कोल तस्करों के सिंडीकेट ने सीज पड़े अवैध भंडारण से उड़ाया करोड़ों का कोयला

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Sonbhadra News: कृष्णशीला रेलवे साइडिंग (Krishnasheela Railway Siding) के पास बांसी गांव में एनसीएल की जमीन पर 32 बीघे एरिया में डंप पाए गए अवैध कोल भंडारण (illegal coal storage) को लेकर, एक बार फिर से कोल तस्करों के सिंडीकेट ने, मजबूत उपस्थिति दर्ज कराई है। प्रशासन की तरफ से की गई सीज की कार्रवाई और पुलिस की निगरानी के बावजूद, मौके से करोड़ों का कोयला गायब होने के बाद हड़कंप मच गया है।

जानकारी सामने आने के बाद शक्तिनगर पुलिस (Shaktinagar Police) की छापेमारी में, एक ट्रांसपोर्टर के मुंशी सहित चार को गिरफ्तार कर लिया गया है। कोयला लदे तीन ट्रेलर भी पकड़े गए हैं। लोड किए गए कोयले को भंडारण स्थल पर गिरवाने के बाद तीनों वाहनों को थाने लाकर सीज कर दिया गया है। अब तक यहां से कितना कोयला, किस-किस ट्रांसपोर्टर द्वारा उठाया गया, इसकी जानकारी जुटाई जा रही है।



गत 21 जुलाई को एडीएम सहदेव मिश्रा की अगुवाई वाली टीम ने कृष्णशीला रेलवे साइडिंग के पास लाखों टन कोयले का अवैध भंडारण पकड़ा था। इसके बाद कोयले को सीज कर, पब्लिक नोटिस के जरिए दावेदारी मांगी गई। निर्धारित अवधि में कोई दावेदारी न आने के बाद डीएम चंद्रविजय सिंह के जरिए पूरी रिपोर्ट शासन को भेज दी गई। उधर, रेलवे की बिजिलेंस टीम की तरफ से स्थितियां जांचने के साथ ही, रेलवे बोर्ड को रिपोर्ट भेजी गई।



एनसीएल के सीएमडी भोला सिंह ने यूनियन प्रतिनिधियों को साथ लेकर, मौके का निरीक्षण किया और सिक्योरिटी विंग को जरूरी निर्देश दिए। बावजूद, बताया जा रहा है कि कोयले को सीज करने के तीन-चार दिन बाद से ही रात के अंधेरे में, अवैध भंडारण स्थल से कोयले को ट्रकों और ट्रेलरों पर लोड कर गायब करने का काम शुरू कर दिया गया। सबसे ज्यादा लोडिंग शनिवार से सोमवार की रात के बीच किए जाने की बात बताई जा रही है।

मीडियाकर्मियों की पड़ी नजर, तब खुला खेल

मंगलवार की शाम कुछ मीडियाकर्मियों की नजर यहां से उठाए जा रहे कोयले पर पड़ी तो आनन-फानन में लोडिंग बंद कर वहां मौजूद लोग फरार हो गए लेकिन जो तस्वीर सामने आई उससे पता चला कि भंडारण पकड़े जाने के समय, जिस जगह खड़े होकर क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण अधिकारी ने बाइट दी थी, वहां से लेकर उसके पीछे की एक बड़ी एरिया से कोयला गायब हो चुका है। मौके पर टायरों के ताजे निशान मिले। आस-पास मौजूद ग्रामीणों के साथ ही एक सिक्योरिटी गार्ड ने भी, उनका नाम कोयला तस्करों को न मालूम चलने देने की शर्त पर बताया कि, भंडारण सीज करने के तीन-चार दिन बाद से कथित ट्रांसपोर्ट कंपनियों के कथित गुर्गों की तरफ से कोयला उठवाकर दूसरी जगह ले जाए जाने का क्रम शुरू हो गया।

दिन में छिटपुट गाड़ियां निकलती है। रात गहराते ही पोकलेन से लोडिग और 15-20 ट्रेलर कोयले की ढुलाई में लग जाते हैं। ग्रामीणों का कहना था कि रात में लोडिंग के समय यहां असलहाधारियों की टीम खड़ी रहती है। इसलिए सब कुछ देखने के बाद भी ग्रामीण, किसी से कुछ बताने या कुछ कहने से डरने लगे हैं।


पुलिस ने की छापेमारी तो पकड़ लिए गए तीन वाहन

मामले की जानकारी मिलने के तत्काल बाद पुलिस पहुंची लेकिन, कोयला गायब करने में लगे लोग वहां से फरार हो चुके थे। मामले के खुलासे और पुलिस निगरानी के बावजूद, इसे दुस्साहस ही कहेंगे कि एक ट्रांसपोर्टर से जुड़े लोग बुधवार की भोर में कोयले की अनलोडिंग के लिए पहुंच गए। तीन ट्रेलर कोयला लोड भी कर लिया। तभी किसी तरह पुलिस को खबर मिल गई और मौके पर लोडिंग करा रहे मुंशी और तीनों वाहनों के चालक धर लिए गए। वाहनों को वहीं खाली कराने के बाद, थाने ले आया गया, जहां पूछताछ की कार्रवाई करते हुए, दोपहर बाद पकड़े गए चारों आरोपियों का चालान करने के साथ ही, तीनों वाहन सीज कर दिए गए।

एक ट्रांसपोर्टिंग कंपनी का सामने आया नाम, शेष के बारे में जुटाई जा रही जानकारीः पुलिस

इस बारे में चाही गई जानकारी के क्रम में, सेलफोन पर शक्तिनगर एसओ नागेश सिंह ने बताया कि छापेमारी के दौरान चार लोग, तीन वाहनों से सीज किए कोयले को उठाते मिले थे। पूछताछ में कोयला रेलवे साइडिंग पर लोडिंग के लिए ले जाने की बात बताई गई। चारों आरोपियों का चालान कर दिया गया है। कोयले को मौके पर ही अनलोड करवाने के बाद, वाहनों को थाने लाकर सीज कर दिया गया है। जो लोग पकड़े गए हैं, उनका जुड़ाव बालाजी नामक ट्रांसपोर्ट कंपनी से पाया गया है। अन्य कौन-कौन ट्रांसपोर्टर या ट्रांसपोर्ट कंपनियां कोयला उठाने में शामिल हैं, इसकी जानकारी जुटाई जा रही है।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story