Top

बच्चों को संरक्षित रखने के लिए समिति को चौकन्ना रहने की जरूरत: आरएन सिंह

विशिष्ट अतिथ प्रोफेसर आर यन सिंह ने कहा कि यदि समिति समय रहते चौकन्ना रहे तो सभी बच्चों का उचित संरक्षण किया जा सकता है बाल कल्याण समिति एवं किशोर न्याय बोर्ड को सूचनाओं का तत्काल प्रेषित करना लावारिस निराश्रित बच्चों की समयानुसार प्रस्तुति कराना चाहिए।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 4 March 2021 4:45 PM GMT

बच्चों को संरक्षित रखने के लिए समिति को चौकन्ना रहने की जरूरत: आरएन सिंह
X
विशिष्ट अतिथ प्रोफेसर आर यन सिंह ने कहा कि यदि समिति समय रहते चौकन्ना रहे तो सभी बच्चों का उचित संरक्षण किया जा सकता है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जौनपुर: सरजू प्रसाद शैक्षिक सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्था व मानव संसाधन एवं महिला विकास संस्थान के संयुक्त तत्वाधान में बी आर पी इंटर कॉलेज में बाल संरक्षण समिति पर कार्यशाला आयोजित की गई।

मुख्य अतिथि सहायक श्रम आयुक्त कुलदीप ने कहा कि कोई बच्चा यदि लापता होता है तो या किसी तरह की कोई लैंगिक हिंसा होती है तो या कोई बालक लावारिस अवस्था में मिलता है अथवा निराश्रित है उसके संदर्भ में समिति को समयानुसार सूचना देकर बच्चे को बचाया जा सकता है। जिला ब्लाक ग्राम स्तर की समितियां सक्रिय रहेंगी तो बच्चों को पूर्ण संरक्षण मिल सकेगा और उनका कल्याण हो पाएगा।

इसके गठन और सक्रियता के लिए संबंधित विभाग को पूरी तत्परता से कार्य करना चाहिए और समय-समय पर इसका प्रशिक्षण उपलब्ध कराते रहना चाहिए एसजेपीयू को भी अपने संबंधित थानों में इनकी अलग से बैठक कराते रहना चाहिए।

ये भी पढ़ें...Ease of Living Index: देश के Top-10 जिलों में झांसी, म्यूनिसिपैलिटी में 9वां स्थान

विशिष्ट अतिथ प्रोफेसर आर यन सिंह ने कहा कि यदि समिति समय रहते चौकन्ना रहे तो सभी बच्चों का उचित संरक्षण किया जा सकता है बाल कल्याण समिति एवं किशोर न्याय बोर्ड को सूचनाओं का तत्काल प्रेषित करना लावारिस निराश्रित बच्चों की समयानुसार प्रस्तुति कराना चाहिए।कार्यक्रम का संचालन करते हुए डॉ दिलीप सिंह विधिक पहलुओं की समस्त जानकारी दी।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्रधानाचार्य डॉ सुभाष सिंह बच्चों की समस्त समस्याओं का निराकरण समिति के माध्यम से कराया जा सकता है। समिति ग्राम और ब्लॉक के लोग जिले स्तर पर उसकी सूचनाओं को प्रेषित कर सकते हैं डीसीपीयू को समय रहते इस पर कार्रवाई करनी चाहिए।

ये भी पढ़ें...बेहतर इम्यूनिटी वाले मुर्गे इन खतरनाक बीमारियों से लड़ेंगे, जानिए खासियत

उक्त अवसर पर समन्वयक मनोज कुमार पाल रजिया रुखसार और फरहद महिला कल्याण अधिकारी नीता वर्मा प्रतिभा सिंह फूलचंद भारती दिलीप शुक्ला आनंद प्रेम धन शिव शंकर चौरसिया डॉ राजेश कुमार उत्कर्ष वत्स बाल संरक्षण अधिकारी चंदन राय गायत्री प्रसाद (एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग) (चाइल्डलाइन) राजकुमार विमल श्रीवास्तव ऋषि श्रीवास्तव प्रकाश चंद श्रीवास्तव संजय श्रीवास्तव विनीत यादव मंजू देवी कोमल निसार अहमद स्वयं सेवी संगठन की पदाधिकारी उपस्थित रहे । उक्त अवसर पर अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम के अंत में बाल कल्याण समिति के पूर्व अध्यक्ष बालिका सुरक्षा जागरूकता अभियान कवच के मास्टर ट्रेनर संजय उपाध्याय ने सभी आगंतुकों का आभार व्यक्त किया।

रिपोर्ट: कपिल देव मौर्य

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story