Top

VIDEO: युवती पर गुब्बारा फेंकने पर कम्युनल टेंशन, अब आरोपी जाएगा जेल

Admin

AdminBy Admin

Published on 18 March 2016 10:01 AM GMT

VIDEO: युवती पर गुब्बारा फेंकने पर कम्युनल टेंशन, अब आरोपी जाएगा जेल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुजफ्फरनगर: होली से पहले जिले में कम्युनल टेंशन के चलते एक बार फिर हालात खराब होते नजर आ रहे हैं। नगर कोतवाली क्षेत्र के नया बांस इलाके में कश्यप समाज की एक युवती पर मुस्लिम समाज के युवकों द्वारा जबरन गुब्बारा फेंकने और छेड़छाड़ के बाद दोनों पक्ष आपने-सामने आ गए और कई घंटे जमकर पथराव और फायरिंग हुई। पत्थरबाजी में हिन्दू समाज के 3 युवक घायल हो गए।

इस घटना के बाद हिरासत में लिए गए एक समुदाय के पांच युवकों को पुलिस ने छोड़ दिया वहीं दूसरे समुदाय के तीन युवकों को भी छोड़ा गया है, जबकि मुख्‍य आरोपी को अरेस्‍ट कर जेल भेजा जा रहा है।

धरने पर बैठे लोगों से बात करती पुलिस धरने पर बैठे लोगों से बात करती पुलिस

क्‍या है पूरा मामला

-यह घटना कोतवाली क्षेत्र के नया बांस मोहल्ले की है।

-यहां एक समुदाय के लड़के पर दूसरे समुदाय की लड़की से छेड़खानी करने का आरोप लगाया गया।

-दोनों समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए। दोनों ओर से जमकर पथराव और फायरिंग हुई।

-पुलिस को मौके से कई गोलियों के खोके भी मिले है।

डीएम रहे नदारद

-पिछले तीन दिनों से क्षेत्र में युवतियों से छेड़छाड़ को लेकर दोनों समुदायों में तनातनी चल रही है।

-इसके चलते गुरुवार को मामला बेहद गंभीर हो गया।

-एसएसपी कृष्ण बहादुर,एसपी सिटी संतोष कुमार मिश्रा,एसपी क्राइम राकेश जौली,सीओ सिटी तेजवीर सिंह शाम तक घटनास्थल पर मौजूद रहे।

-वहीं डीएम निखिल चन्द्र शुक्ल घटना स्थल से नदारद रहे।

-मामला बिगड़ता देख शामली और सहारनपुर से अतिरिक्त पुलिस फोर्स मंगवाया गया।

लाठीचार्ज के बाद बेहोश महिला को उठाती महिला लाठीचार्ज के बाद बेहोश महिला को उठाती महिला

युवती पक्ष के लोगों ने लगायाआरोप

-पुलिस ने घटना के बाद हिंदू समाज के युवकों और विक्टिम को कई घंटे थाने पर बैठाए रखा।

-हालांकि पुलिस ने दोपहर बाद युवती से पूछताछ कर उसके परिजनों के सुपुर्द कर दिया ।

-लेकिन देर रात तक हिंदू युवकों को नहीं छोड़ा।

-हिंदू समाज के लोग कोतवाली में पुलिस की एकतरफा कार्यवाही के खिलाफ धरने पर बैठे रहे।

महिलाओं ने जलाया पुतला

-देर शाम एसएसपी द्वारा युवकों को छोड़ने के आश्वासन पर कोतवाली में जमा भीड़ घर लौट गई।

-लेकिन युवकों के घर ना लौटने पर एक बार फिर सैकड़ों महिलाएं आक्रोषित हो गईं।

-कोतवाली में पहुंचकर वे पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर उनका पुतला जलाया।

पुलिस ने बरसाईं लाठियां

-पुलिस ने शहर कोतवाली में धरने पर बैठी महिलाओं पर बर्बरतापूर्ण लाठी चार्ज किया।

-इसमें कई बुजुर्ग महिलाएं भी थीं जिन्‍हें चोटे आईं हैं।

धरने पर बैठे बीजेपी विधायक ने पुलिस पर लगाए आरोप

-पुलिस कवाल कांड की तरह एकतरफा कार्यवाही कर रही है।

-हिंदू समाज के कई बेकसूर युवकों को पुलिस ने थाने पर बैठाए रखा है।

-परिजनों ने शांतिपूर्ण ढंग से कोतवाली में युवकों की रिहाई के लिए धरना दिया तो रात के अंधेरे में उन पर लाठीचार्ज किया गया।

-पुलिस सपा सरकार के इशारों पर काम कर रही है।

-बीजेपी विधायक कपिलदेव अग्रवाल पुलिस के खिलाफ रात 12 बजे शिव चोंक पर धरने पर बैठे।

क्‍या था कवाल कांड

-गौरतलब है कि 28 अगस्त 2013 में भी सिखेड़ा थाना क्षेत्र के गांव कवाल में हिन्दू समाज की युवती से छेड़छाड़ हुई थी

-विवाद में शाहनवाज और सचिन गौरव की हत्या कर दी गई थी ।

-इसमें तत्कालीन एसएसपी मंजिल सैनी ने गौरव सचिन के हत्यारों को गिरफ्तार कर लिया था।

-लेकिन सत्ता पक्ष के एक नेता के इशारे पर उन्हें थाने सो छोड़ दिया गया था।

-हालांकि पुलिस ने दोनों ओर से मिली तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर कई लोगों को हिरासत में लिया था।

-इसके बाद मुजफ्फरनगर पुलिस पर एकतरफा कार्यवाही का आरोप लगा और पंचायतों का दौर शुरू हुआ

-7 सितम्बर की नगला मंदौड़ पंचायत के बाद मुज़फ्फरनगर , शामली समेत मेरठ बागपत में सांप्रदायिक हिंसा भड़क गई

-इसमें 66 लोगों की मौत हुई और कई हजार लोगों ने गांव से पलायन किया था।

फिर बिगड़ सकते हैं हालात

-गुरुवार को फिर मुजफ्फरनगर में युवतियों से छेड़छाड़ के बाद शहर सुलग रहा है।

-पुलिस ने समय रहते अगर निष्पक्ष कार्यवाही नहीं की तो मुजफ्फरनगर के हालात फिर से बिगड़ सकते हैं।

-जानकारी के मुताबिक बीजेपी के कई दिग्गज नेता मुजफ्फरनगर पहुंच सकते है।

-कृषि राज्य मंत्री संजीव बालियान, बीजेपी विधायक संगीत सोम और सुरेश राणा के मुजफ्फरनगर पहुंचने की सम्भावनाएं हैं।

-घटनास्थल से महज 50 कदम की दूरी पर पुलिस चौकी होने के बाद भी मौके पर पुलिस नहीं पहुंची।

Admin

Admin

Next Story