भाजपा सरकार के कुशासन के खिलाफ 14 दिसंबर को दिल्ली में रैली करेगी कांग्रेस

लखनऊ। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा है कि भाजपा सरकार द्वारा लोकतंत्र की हत्या, विचार एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दमन, आर्थिक लूट, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, मंहगाई, किसानों पर हो रहे लगातार अत्याचार आदि मुद्दोें को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आह्वान पर 14 दिसम्बर को नई दिल्ली के रामलीला मैदान में ‘‘भारत बचाओ रैली’’ ऐतिहासिक होगी।

जिलों का दौरा कर रहे नेता

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि रैली को सफल बनाने के लिए राष्ट्रीय सचिवगण, प्रदेश कांग्रेस के सभी पदाधिकारीगण एवं वरिष्ठ नेतागण प्रदेश के जिलों-जिलों का लगातार दौरा कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश से लाखों की संख्या में कार्यकर्ता रैली को सफल बनाने के लिए दिल्ली पहुंचेंगे। उन्होने कहा कि केन्द्रीय सांख्यकीय कार्यालय (सीएसओ) ने स्वीकार किया कि मौजूदा समय में बेरोजगारी पिछले 45 सालों में सबसे ज्यादा है।

सरकार को बेनकाब करेंगे

अजय कुमार ने कहा कि पिछले 6 वर्षों में आर्थिक विकास दर सबसे बुरे दौर में है और यह घटकर पांच प्रतिशत के भी नीचे पहुंच गयी है। किसान परेशान है, युवा हैरान है और देश की अर्थव्यवस्था चौपट हो गयी है और इन सबकी जिम्मेदार भाजपा की गलत आर्थिक नीतियां हैं। सरकार किसान-युवा विरोधी है, दिल्ली में भारत बचाओ रैली करके केन्द्र और प्रदेश की भाजपा सरकार को बेनकाब करेंगे।

महिलाओं पर अत्याचार बढ़ा

अजय कुमार लल्लू ने कहा कि उप्र में महिलाओं पर अत्याचार लगातार बढ़ रहा है। उप्र देश में महिला अपराधों पर नम्बर एक पर पहुंच गया है। हत्या, बलात्कार, अपहरण, साइबर क्राइम में भी उप्र ने रिकार्ड कायम कर दिये हैं। स्थिति भयावह है। 2013 में जहां प्रदेश में महिलाओं के प्रति अत्याचार के मामलों में चार्जशीट दाखिल करने का प्रतिशत 95.4 प्रतिशत था वहीं 2017 में घटकर 86.6 प्रतिशत ही रहा। सरकार की महिलाओं के प्रति संवेदनहीनता इस बात से ही पूरी तरह साबित होती है।

होर्डिंग पोस्टर जारी किये

इस मौके पर अजय कुमार लल्लू  ने भारत बचाओ रैली के सन्दर्भ में केन्द्र सरकार की विफलताओं, किसानों की समस्या एवं बढ़ती आत्महत्या, आर्थिक मंदी, महिलाओं पर अत्याचार, युवाओं की बेरोजगारी, बढ़ती मंहगाई, विफल कानून व्यवस्था आदि मुद्दों पर आधारित होर्डिंग, पोस्टर, पम्फलेट, हैण्डबिल आदि जारी किया किया।

उन्नाव रेप पीड़िता को जलाने की निंद

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष  ने उन्नाव के बिहार थानान्तर्गत हिन्दूनगर गांव की महिला के साथ मार्च माह 2019 में हुए बलात्कार के आरोपियों द्वारा जेल से छूटने के बाद कल पेट्रोल डालकर दुष्कर्म पीडि़ता को जिन्दा जलाने के किये गये प्रयास की घोर भर्त्सना की।

पुलिस ने मिलने से रोका

लखनऊ के सिविल हास्पिटल में जीवन-मृत्यु से संघर्ष कर रही पीडि़ता का हाल-चाल लेने एवं उनके परिवारीजनों से मिलने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सिविल हास्पिटल गए। बर्न यूनिट के गेट पर मौजूद पुलिस प्रशासन द्वारा रोके जाने पर उन्होने मौजूद चिकित्सकों से पीडि़ता के हालात के बारे में जानकारी हासिल की और बेहतर चिकित्सा सुविधा प्रदान किये जाने के लिए चर्चा की।

उठाए पुलिस कार्यप्रणाली पर सवाल

उन्होने वहां पर मौजूद पुलिस के आला अधिकारियों से रोष व्यक्त करते हुए कहा कि घटना के विवेचक ने किसके दबाव में कमजोर विवेचना के माध्यम से आरोपितों को जेल से छूटने में मदद प्रदान की? आखिर अपराधी बलात्कार जैसे जघन्य अपराध के मामले में इतनी जल्दी कैसे जेल से छूट जाते हैं? क्या इन अपराधियों को सत्ता का संरक्षण प्राप्त नहीं था? परिवारीजनों से मिलने की बात पर पुलिस अधिकारियों ने उनके वहां पर न होने की बात बतायी। यह भी स्वयं में एक बड़ा प्रश्न खड़ा करती है?

इसके पूर्व अजय कुमार लल्लू जी के निर्देश पर उत्तर प्रदेश महिला कांग्रेस की मध्य जोन की अध्यक्ष ममता चौधरी पार्षद के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल सिविल हास्पिटल पीडि़ता का कुशलक्षेम लेने गया, किन्तु प्रतिनिधिमंडल को पुलिस प्रशासन द्वारा मिलने से रोक दिया गया। प्रतिनिधिमंडल में ममता चौधरी के साथ आरती बाजपेयी, सुशीला शर्मा, संगीता सिंह, मधु मिश्रा, लता दुबे, माया चौबे एवं कमलेश कुमारी शामिल रहीं।