कांग्रेस नेता का सरकार पर हमला, मोदी को बताया सबसे असफल प्रधानमंत्री

प्रमोद तिवारी ने कहा कि देश की जीडीपी 3.1 प्रतिशत पर है, जो दशकों के निम्नतर स्तर पर गिर गई है। इसमें कोविड- 19 के लॉकडाउन का मात्र एक सप्ताह ही सम्मिलित है

लखनऊ:  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हर मोर्चे पर आजादी के बाद का सबसे असफलतम प्रधानमंत्री बताया है। उन्होंने कहा है कि ‘‘मोदी सरकार’’ का छह ‘साल का कार्यकाल देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद करने वाला, बेरोजगारी को बढ़ाने वाला, देश की एकता और अखण्डता को खण्डित करने वाला कार्यकाल साबित हुआ है। उन्होंने भविष्य में देश की अर्थव्यवस्था व पड़ोंसी देशों से संबंध सुधारने के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाकर विचार विमर्श करने की मांग की है।

देश की अर्थव्यवस्था बर्बादी के मुहाने पर- प्रमोद तिवारी

प्रमोद तिवारी ने मोदी सरकार 2.0 का एक साल पूरा होने पर रविवार को कहा कि मोदी सरकार ने अपने उपलब्धियों की जो गाथा देश के सामने प्रस्तुत की है वह आज के हालात में भारत माता के प्रिय सपूतों, किसान, मजदूर, निम्न और मध्यम व्यापारियों के जख्मों पर नमक छिड़कने जैसा था। उन्होंने कहा कि देश की जीडीपी 3.1 प्रतिशत पर है, जो दशकों के निम्नतर स्तर पर गिर गई है। इसमें कोविड- 19 के लॉकडाउन का मात्र एक सप्ताह ही सम्मिलित हैं। लॉकडाउन का असर इस तिमाही पर पड़ेगा जिसमें स्थिति और अधिक खराब होने की आशंका है। और यह तब है जब वर्ष 2014 के पहले के मानक बदल दिये गये हैं। यदि 2014 के पहले का मानक होता तो वास्तविक जी.डी.पी. आज शून्य के आस-पास होती।

ये भी पढ़ें-     सिलेंडर बूकिंग आसान: WhatsApp पर मिली ये सुविधा, जारी हुआ खास नंबर

उन्होंने कहा कि जीडीपी के गिरने से ज्यादा चिंता यह है कि विकास के कोर सेक्टरों में 38 से 39 प्रतिशत की गिरावट है। देश में बेरोजगारी की स्थिति यह है कि युवा आर्थिक तंगी और बेरोजगारी के कारण आत्महत्या कर रहे हैं। बेरोजगारी पिछले 46 साल के सबसे निम्नतर स्तर पर पहुंच गयी है। कुल मिलाकर मोदी सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था को बर्बादी के मुहाने पर पहुंचा दिया है। प्रमोद तिवारी ने कहा कि देश में जब कोरोना पीड़ितों की संख्या लगभग 560 थी तो प्रधानमंत्री ने ऐतिहासिक ब्लण्डर करके बीती 25 मार्च की रात 12.00 बजे से 21 दिनों के लिए लॉकडाउन लागू कर दिया। लॉकडाउन के पूर्व प्रधानमंत्री ने केवल 4 घण्टे का समय दिया जिससे छात्र, पर्यटक, मजदूर सहित अन्य लोग, जो जहां थे वहीं फंस गये।

विदेशी सम्बन्ध भी हुए कमजोर- प्रमोद तिवारी

कांग्रेस नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री को कम से कम एक सप्ताह का समय देना चाहिए था। जिससे लोग अपने घरों को सुरक्षित पहुंच जाते। उसके बाद लॉकडाउन लगाना चाहिए था। उन्होंने कहा कि अब जबकि कोरोना संक्रमितों की संख्या लगभग 2 लाख के पास पहुंच गई तो लॉकडाउन खोल दिया गया। तिवारी ने कहा कि देश पिछले एक साल में जहां आर्थिक रूप से कमजोर हुआ है वहीं देश के आपसी सौहाद का ताना- बाना भी खत्म हुआ है।

ये भी पढ़ें-    कोरोना मुक्त हुआ ये नेता: अस्पताल से निकलते ही हुआ ऐसा स्वागत, तोड़े सारे नियम

वर्ष 2014 में जब प्रधानमंत्री ने देश की बागडोर संभाली थी तो पड़ोसी देश नेपाल, पाकिस्तान, चीन, बांगला देश और श्रीलंका के साथ हमारे मधुर सम्बन्धों का दौर था। लेकिन आज पाकिस्तान, श्रीलंका और बंगलादेश से तनाव की स्थिति है । नेपाल जो भी आज आंखे तरेर रहा है तो चीन ने देश के एक बड़े भूभाग पर कब्जा कर लिया है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App