Top

बेनी बोले- देर से सही सपा में दुरुस्त आए, पुनिया ने बताया स्वार्थी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 14 May 2016 10:59 PM GMT

बेनी बोले- देर से सही सपा में दुरुस्त आए, पुनिया ने बताया स्वार्थी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बाराबंकीः पूर्व केंद्रीय मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा ने समाजवादी पार्टी में फिर शामिल होने के बारे में शनिवार को कहा कि देर से आए, लेकिन दुरुस्त आए। वहीं, बेनी के कांग्रेस छोड़कर सपा में जाने पर कांग्रेस सांसद और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति और जनजाति आयोग के अध्यक्ष पीएल पुनिया ने निशाना साधा। पुनिया ने कहा कि बेनी स्वार्थी हैं।

क्या कहा बेनी ने?

-बेनी प्रसाद ने भरोसा जताया कि सपा अगला विधानसभा चुनाव जीतेगी।

-यूपी में सपा को बहुमत मिलने की बात कही।

-पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सपा में कुछ नहीं बदला है।

-सपा छोड़ने पर भी विचार न बदलने की बात कही।

-बीएसपी को अच्छी पार्टी मानने से किया इनकार।

यह भी पढ़ें...बेनी वर्मा ने फिर थामा मुलायम का दामन, बन सकते हैं राज्यसभा सदस्य

पुनिया ने साधा निशाना

-बेनी के कांग्रेस छोड़कर जाने पर पीएल पुनिया ने निशाना साधा।

-पुनिया ने कहा, 'स्वार्थ के कारण कांग्रेस में बेनी आए थे।'

-कांग्रेस ने सम्मान देकर बेनी को वर्किंग कमेटी मेंबर बनाया था।

-मंत्री बनने का स्वार्थ पूरा हो गया तो सपा में वापस चले गए।

-कांग्रेस में रहकर पार्टी का नुकसान कर रहे थे बेनी।

यह भी पढ़ें....फिर साइकिल पर सवार हुए बेनी, मुलायम के खिलाफ नीम से कड़वे थे उनके बोल

बेनी के प्रभाव पर उठाए सवाल

-पीएल पुनिया ने बेनी प्रसाद के प्रभाव पर सवाल उठाया।

-पुनिया ने कहा कि बेनी खुद भी हारे और जिनको टिकट दिलाया वे भी हारे।

-बेनी का बेटा ही बाराबंकी से चुनाव नहीं जीत सका।

-कैंडिडेट को अब खूब समझती है जनता।​

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story