Top

UP में BSP से गठजोड़ नहीं करेगी कांग्रेस, अजित से मिला सकती है हाथ!

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 10 May 2016 10:27 AM GMT

UP में BSP से गठजोड़ नहीं करेगी कांग्रेस, अजित से मिला सकती है हाथ!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः बीएसपी के समर्थन से हरीश रावत भले ही फिर से उत्तराखंड के सीएम बन सकते हों, लेकिन इसके बदले में यूपी में बीएसपी से किसी गठजोड़ या उसके समर्थन से कांग्रेस ने इनकार कर दिया है। हालांकि पार्टी अजित सिंह की आरएलडी से हाथ मिला सकती है। एक सवाल के जवाब में मधुसूदन मिस्त्री ने कहा- अभी चुनाव में दस दूर हैं। अभी हम सभी सीटों पर लड़ने की तैयारी में हैं। पार्टी ने इसी महीने लखनऊ में कार्यकर्ता सम्मेलन करने का फैसला किया है। इसमें कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी मौजूद रहेंगे।

पीके के साथ हुई मीटिंग

-यूपी कांग्रेस प्रभारी मधुसूदन मिस्त्री और प्रदेश अध्यक्ष निर्मल खत्री ने पोल स्ट्रैटेजिस्ट प्रशांत किशोर से मीटिंग की।

-जिलाध्यक्षों और 685 में से 582 ब्लॉक अध्यक्ष भी पीके से मिले।

बैठक के बाद क्या बोले मिस्त्री?

-यूपी में बीएसपी से गठजोड़ या सहयोग नहीं लेगी कांग्रेस

-बुंदेलखंड की जमीनी हकीकत जानने के लिए बड़ी यात्रा निकालेगी कांग्रेस।

-यूपी में अकेले दम पर विधानसभा चुनाव लड़ सकती है कांग्रेस।

-अजित सिंह की आरएलडी से गठजोड़ से इनकार नहीं किया।

कार्यकर्ताओं ने क्या की मांग?

-जल्द से जल्द प्रत्याशियों के नामों का एलान किया जाए।

-पिछली बार हारकर आए बाहरी नेताओं से दूरी बनाई जाए।

और क्या फैसले हुए?

-निचले स्तर पर भी कार्यकर्ताओं का बेस मजबूत करने का फैसला।

-दूसरे राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनाव नतीजों के बाद यूपी के प्रत्याशी तय होंगे।

-क्षेत्रीय मुद्दे मजबूत हुए तो उन्हें भी मेनिफेस्टो में जगह देगी कांग्रेस।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story