Top

शिप्रा केसः नोएडा-गुड़गांव पुलिस की कहानी अलग, इन सवालों के नहीं जवाब

Admin

AdminBy Admin

Published on 4 March 2016 12:37 PM GMT

शिप्रा केसः नोएडा-गुड़गांव पुलिस की कहानी अलग, इन सवालों के नहीं जवाब
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा: पांच दिन पहले गायब हुई शिप्रा का नाटकीय ढंग से घर पहुंच गई। यूपी पुलिस जहां फाइनेंसियल प्राॅब्लम के चलते शिप्रा के खुद घर छोड़ने की बात कह रही है। वहीं, हरियाणा पुलिस इसे किडनैपिंग का केस बता रही है। दोनों राज्यों की पुलिस की कहानी में अंतर से कई सवाल खड़े हो गए हैं। पुलिस इस पूरे मामले की फिर से तहकीकात करने के लिए शिप्रा को जयपुर और गुडगांव ले जा सकती है।

क्‍या कहती है हरियाणा पुलिस?

-गुड़गांव से नोएडा आते समय शिप्रा झज्‍जर के पास उतरी थी।

-वहां मौजूद लोगों से उसने किडनैपिंग की बात कही।

-लोग उसे सुल्तानपुर गांव ले गए, उसकी मुलाकात वहां के सरपंच से कराई।

-सरपंच के फोन से शिप्रा ने अपने पति को फोन किया।

-सुल्तानपुर पुलिस के बयान में किडनैपिंग का जिक्र किया गया है।

नोएडा पुलिस नहीं मान रही किडनैपिंग

-नोएडा पुलिस किडनैपिंग की खबर को सिरे से नकार रही है।

-पुलिस रात दो बजे सुल्तानपुर पहुंची और शिप्रा को वहां से नोएडा ले आई।

-नाेएडा पुलिस की मानें तो शिप्रा फाइनेंसियल प्राॅब्लम के कारण घर छोड़कर गई थी।

फोन नहीं आता तो न मिलती शिप्रा

-यूपी पुलिस अंत तक शिप्रा के भाई शिवांग और दोस्त सन्नी से पूछताछ करती रही।

-लेकिन उसे कोई सुराग नहीं मिला। शिप्रा के फोन करने पर ही नोएडा पुलिस को पता चला कि वह सुल्तानपुर में सरपंच के यहां है।

-वहां से किरणएस की अगुवाई में रात दो बजे शिप्रा को नोएडा लाया गया।

-सुबह पांच बजे शिप्रा का मेडिकल कराया गया। जिसमें वह पूरी तरह फिट निकली।

कर्ज में डूबा था परिवार

-सीओ एसटीएफ राजकुमार मिश्रा ने बताया कि मलिक परिवार की आर्थिक स्थिति बेहद खराब थी।

-शिप्रा का बुटिक चल नहीं रहा था। और चेतन मलिक भी काफी कर्जे में था।

-सूत्रों के मुताबिक शिप्रा के भाई पर करीब 75 लाख रुपए का कर्ज था।

-इसके अलावा पति चेतन मलिक और ससुर पर भी कर्ज था।

-जिसको लेकर शिप्रा काफी भार महसूस कर रही थी। लिहाजा वह घर छोड़कर चली गई।

पुलिस के पास नहीं हैं ये जवाब

-शिप्रा मामले में पुलिस के पास कई सवालों के जवाब नहीं हैं।

-डीआईजी पूरे मामले में शिप्रा के बयानों की जांच की बात करती रहीं।

-शिप्रा जयपुर से सीधे नोएडा भी आ सकती थी लेकिन वह गुड़गांव क्यों गई?

-बैंक जाकर लॉकर ऑपरेट करने का क्या मकसद था?

-अगर घर वापस लौटना ही था दिन में क्यों नहीं आई?

घटना वाले दिन क्‍यों किया था फोन

-लाजपतनगर से पुलिस कंट्रोल रूम फोन किया गया।

-यह बताने के लिए कि परिवार को परेशान न किया जाए। कॉल 1० सेकंड की गई।

-शिप्रा दोबारा भी कॉल कर सकती थी। लेकिन उसने ऐसा क्यो नहीं किया।

दोहराया जाएगा पूरा प्रकरण

-जांच पड़ताल करने के लिए पुलिस पूरे मामले को दोबारा से रि-क्रिएट करेगी।

-सूत्रों की मानें तो पुलिस शिप्रा को उन स्थानों पर लेकर जाएगी, जहां वह गई और वापस लौटी। ताकि सच का पता चल सके।

-हालांकि डीआईजी के मुताबिक अभी शिप्रा के बयानों की जांच की जा रही है।

Admin

Admin

Next Story