मायावती ने कहा- अब लेने होंगे कड़े फैसले, देश अपने जवानों को शहीद होते नहीं देख सकता

Published by Published: November 1, 2016 | 1:45 pm
LIVE: नसीमुद्दीन सिद्दीकी को मायावती का जवाब, प्रेस कांफ्रेंस शुरू

लखनऊ: बसपा सुप्रीमो मायावती ने सीमाओं के साथ जवानों के जीवन को भी सुरक्षित व बेहतर बनाने पर बल देते हुए कहा है कि यह जरूरी है ताकि जवानों की शहादत का सिलसिला थमे। इसके लिए सरकार को ठोस नीति व कड़े फैसले लेने होंगे। देश अपने जवानों को लगातार शहीद होते हुए नहीं देख सकता है।

मायावती ने मंगलवार को जारी एक बयान में पीएम नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए कहा है कि बेहतर होता कि पीएम मोदी इस बार दीपावली शहीद जवानों के परिवारवालों के साथ दिल्ली में एकत्रित रूप में मनाते और उनको मिलने वाली अनुग्रह राशि व अन्य सुविधाएं एकमुश्त उन्हें सौंपकर उनके आंसू पोंछने का काम करते हैं। मानवीयता से भरपूर ऐसा काम उन्होंने नहीं किया। यह उन सैनिकों को भी अच्छा लगता, जिनके बीच मोदी ने दीपावली मनायी और मिठाइयां खाई।

सीमा पर लगातार जवानों के शहीद होने की खबरों पर चिंता जताते हुए मायावती ने कहा कि एलओसी के पास सीजफायर के बार-बार उल्लंघन से यह संख्या और बढ़ी है। शहीदों के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करने के साथ अनुग्रह राशि व अन्य सुविधा एकमुश्त उनके परिवार को दिल्ली बुलाकर दे दी जाती तो यह ज्यादा बेहतर होता और यह वीर शहीदों के प्रति देश की सच्ची श्रद्धांजलि होती।

मायावती ने आगे कहा है कि अक्सर वीर शहीदों के परिवार वालों को जायज़ सुविधायें सरकार की लालफीताशाही के कारण समय पर नहीं मिल पाती हैं। इसलिये सरकार को इन मामलोें के प्रति और ज़्यादा संवेदनशील होकर प्रक्रिया में आवश्यक सुधार करने की ज़रूरत है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App