Top

UP में वेब क्राइम सिस्टम लागू, अपराध पर होगी GOOGLE की नज़र

Admin

AdminBy Admin

Published on 12 March 2016 6:06 AM GMT

UP में वेब क्राइम सिस्टम लागू, अपराध पर होगी GOOGLE की नज़र
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बरेली: यूपी पुलिस अब प्रदेश के सभी जिलों में वेब बेस क्राइम मैपिंग सिस्टम लागू करने जा रही है। इससे किसी भी शहर के बारे में जानने के लिए अब गूगल पर सर्च करते ही क्रिमनल इलाको का मैप देखने को मिल जाएगा। यही नहीं इससे यह भी पता चल जाएगा कि किन इलाको में किस तरह का अपराध ज्यादा होता है।

शुक्रवार को पुलिस लाइंस सभागार में क्राइम मैपिंग का के बारे में जानकारी देते हुए आईजी, पीएसी पूर्वी जोन लखनऊ आशुतोष पांडेय ने कहा कि यूपी के आगरा में हरिपर्वत इलाके से ज्यादा संजय पैलेस से वाहन चोरी होते हैं।

वेब बेस क्राइम मैपिंग सिस्टम के जरिए हमने उस स्थान को चिन्हित कराकर प्रचार-प्रसार करा दिया है। जिससे वाहन चोरी में भारी कमी आई है। मैपिंग से दूसरा फायदा यह है कि लोकल के व्यक्तियो के अलावा बाहर से आने वालों को भी मैपिंग सिस्टम अर्लट करेगा। इससे यह जानकारी मिल जाएगी कि आप किस तरह के अपराध के इलाके से गुजर रहे हैं।

व्हाट्स-एप गुप बनाएंगे पुलिसकर्मी

-स्मार्ट पुलिस कर्मी भी व्हाट्स-एप पर गुप बनाकर ज्यादा से ज्यादा लोगो को जोड़ेंगे।

-फेसबुक पर भी सभी को अपना एकाउंट खोलकर समाज के लोगों को जोडना है।

-मुजफ्फनगर दंगा सोशल मीडिया पर चले एक वीडियो की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

-इस तरह से वीडियो अपलोड होने के बाद माहौल खराब हो जाता है।

-यह पता लगाने में भी मुश्किल होती है कि उसे अपलोड किसने किया है।

फेसबुक पर बनेगा फ्रेंड सर्किल

-आईजी ने बताया कि दारोगा, सिपाही फेसबुक पर फ्रेंड सर्किल बनाएंगे।

-इससे सोशल मीडिया पर होने वाले अपराध पर रोकथाम लगेगी।

-पुलिस का पक्ष है, किसी मामले की इस तरह की जानकारी तत्काल लोगो को दी जा सकेगी।

-थाना प्रभारी, चौकी इंचार्ज, बीट सिपाही अपने-अपने इलाके के लोगो का फेसबुक और व्हाट्स-एप गुप बनाएंगे।

-ग्रुप में किसी घटना की सूचना डालते ही सभी को पता चल जाएगा और उस पर किस तरह की तत्काल कार्रवाई हुई है।

वादी को संतुष्ट करने की सुधरेगी छवि

-आईजी आशुतोष पांडेय ने कहा कि इससे वादी को संतुष्ट करने करने के लिए पुलिस की छवि सुधरेगी।

-पुलिस का रवैया बिल्कुल उल्टा रहता है, थाने में आते ही पुलिस कर्मी वादी पर ही सवार होने लगते है।

-कई बार ऐसा होता है कि वादी के बयान लेने के लिए दरोगा जी आरोपियों के वाहन से ही पहुंच जाते हैं।

-उन्होने कहा की वादी संतुष्ट होगा तो वह अपने इलाके में पुलिस की मदद और तारीफ करेगा।

Admin

Admin

Next Story