Top

नक्सली मुठभेड़ में शहीद हुए CRPF जवान को दी गई श्रद्धांजलि

By

Published on 20 July 2016 12:10 PM GMT

नक्सली मुठभेड़ में शहीद हुए CRPF जवान को दी गई श्रद्धांजलि
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुज़फ्फरनगर: बिहार में हुए नक्सली मुठभेड़ में मुज़फ्फरनगर के सीआरपीएफ जवान हरविंदर उर्फ़ हंशराज पवार शहीद हो गए थे। बुधवार को शहीद हंशराज का शव उनके गांव जटवड कटिया पहुंचा। शव के गांव में आते ही हजारो लोगों की भीड़ शहीद हंसराज को श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे।

क्या था मामला?

-सुबह 11 बजे शहीद हंशराज को सीआरपीएफ जवानों ने शस्त्र सलामी देकर विदाई दी।

-भाजपा सांसद संजीव बालियान ने हंशराज पंवार को भावभीनी श्रद्धांजलि दी।

-17 जुलाई की रात बिहार के औरंगाबाद में नक्सलियों ने सीआरपीएफ जवानों पर हमला कर दिया था।

crpf4

ये भी पढ़ें...नक्सलियों से मुठभेड़ में 10 CRPF कमांडो शहीद, राजनाथ ने जताया शोक

-इसमें कई जवान शहीद हो गए थे और कई जवान गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

-शहीद हंशराज का शव बुधवार की सुबह दिल्ली से उनके पैतृक गांव जटवड कटिया पहुंचा।

-डीआईजी जगजीत सिंह, सीआरपीएफ कमांडेंट राजेश कुमार और जवानों ने शहीद को अंतिम विदाई दी।

क्या कहते हैं सीआरपीएफ कमांडेंट राजेश कुमार?

-शहीद हंशराज पवार कोबरा वाहिनी में पोस्टेड थे।

-बिहार झारखण्ड की सीमा पर 205 बटालियन को माओवाद से लड़ने के लिए तैयार किया गया था।

-अभियान के तहत हमारी टुकड़ी जंगल में गई हुई थी।

crpf2

ये भी पढ़ें...नक्सलियों से मुठभेड़ में 10 CRPF कमांडो शहीद, राजनाथ ने जताया शोक

-वहां माओवादियों ने लेंड माइंस सीरीज लगा रखी थी।

-उस घेरे को तोड़ने के क्रम में जवानों ने के साथ ये हादसा हो गया।

-जंगल की लड़ाई है और जंगल में दुश्मन का सही आकलन करना मुस्किल है।

-सभी योजनाएं दोबारा नए सिरे से बनानी पड़ती है।

-किसी भी एक योजना को दूसरी जगह प्रयोग नहीं किया जा सकता है।

-नक्सलियों को बस एक बार सफल होना पड़ता है और हमें बार बार सफल होना पड़ता है।

crpf-1

ये भी पढ़ें...नक्सलियों ने सीआरपीएफ के बख्तरबंद वाहन को उड़ाया, सात जवानों की मौत

क्या कहते हैं भाजपा सांसद संजीव बालियान?

-हमारा भाई हरविंद्र पवार नक्सलियों से लोहा लेते हुए बिहार में शहीद हुए हैं।

-पूरे जिले को उनकी शहदत पर गर्व है, भगवान उनकी आत्मा को शांति दें।

-जम्मू कश्मीर की घटना पर शायद इतनी बड़ी कार्यवाही कभी हुई हो जो इस बार हुई है।

-कुछ बाहरी ताकते है जो हमेशा इनकी मदद करती रहती है।

-लेकिन सरकार इनको अब पनपने नहीं देगी।

Next Story