Top

रेलवे के रिटायर्ड इंजीनियर के घर बदमाशों का धावा, 9 लाख की डकैती

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 26 July 2016 7:16 PM GMT

रेलवे के रिटायर्ड इंजीनियर के घर बदमाशों का धावा, 9 लाख की डकैती
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः राजधानी के ठाकुरगंज में मंगलवार रात 8 बजे रेलवे के रिटायर्ड सेक्शन इंजीनियर के घर बदमाश घुस आए। बदमाशों ने घरवालों को बंधक बनाया और करीब 9 लाख रुपए के माल पर हाथ साफ कर दिया।

क्या है मामला?

-ठाकुरगंज थाना इलाके के मुसाहेब गंज के जीएल माथुर रोड पर सैयद आसिफ अब्बास रहते हैं।

-सैयद आसिफ अब्बास रेलवे के रिटायर्ड सेक्शन इंजीनियर हैं।

-घर पर आसिफ, उनकी पत्नी शबाना और बेटी अलीशा थे।

-अचानक 5 बदमाश घर में घुस आए, इनमें से 2 के हाथ में पिस्टल और 3 के पास चाकू थे।

dacoity-2 घटनास्थल पर पीड़ितों से पूछताछ करती पुलिस

सबको बनाया बंधक

-बदमाशों ने शबाना के सिर पर पिस्टल की बट से वार किया।

-चीख सुनकर आसिफ अब्बास ऊपरी मंजिल से उतरे तो बदमाशों ने उन्हें भी गन प्वॉइंट पर ले लिया।

-आसिफ, शबाना और अलीशा को बंधक बनाकर बदमाश रकम और जेवरात लेकर फरार हो गए।

-पुलिस ने देर रात तक मुकदमा दर्ज नहीं किया था।

-बताया जा रहा है कि पुलिस ये तय कर रही थी कि लूट में मामला दर्ज हो या डकैती में।

क्या है लूट और डकैती में अंतर?

-कानून के मुताबिक 5 से कम बदमाश होने पर लुटेरे माने जाते हैं।

-5 या ज्यादा बदमाश होने पर डकैती में मुकदमा दर्ज किया जाता है।

-सैयद आसिफ अब्बास के घर पहुंचे बदमाशों की तादाद 5 थी। इस हिसाब से ये डकैती का मामला बनता है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story