×

Lucknow: डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने बीसी सखियों को किया सम्मानित, 2440 करोड़ का कराया ट्रांजैक्शन

Lucknow: महिलाओं के लिए चल रही योजनाओं को उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने समीक्षा करते हुए कहा कि बीसी सखी से प्रदेश की महिलाएं आत्मनिर्भर हो रही हैं। इस दौरान उन्होंने बीसी सखी को सम्मानित भी किया।

Rahul Singh Rajpoot
Updated on: 28 Jun 2022 5:58 PM GMT
Lucknow News In Hindi
X

बीसी सखियों को सम्मानित करते हुए डिप्टी सीएम केशव मौर्य। 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Lucknow News Today: प्रदेश में महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रदेश सरकार (State Government) कई योजनाएं चला रही है। उन्हें आंगनबाड़ी से लेकर बीसी सखी माध्यम से जोड़कर सरकार की योजनाओं का लाभ पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। महिलाओं के लिए चल रही योजनाओं की मंगलवार को उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (Deputy Chief Minister Keshav Prasad Maurya) ने समीक्षा करते हुए कहा कि बीसी सखी (बैंकिंग करेस्पांडेंट) से प्रदेश की महिलाएं आत्मनिर्भर हो रही हैं। बीसी सखियों को अपने कार्य क्षेत्र में और अधिक विस्तार देने की जरूरत है। इससे वह और अधिक स्वावलंबी, सशक्त और मजबूत हो सकेंगी।

डिप्टी सीएम ने उत्कृष्ट कार्य करने वाली बीसी सखियों को किया सम्मानित

उप मुख्यमंत्री और ग्रामीण विकास की जिम्मेदारी संभाल रहे केशव प्रसाद मौर्य (Deputy Chief Minister Keshav Prasad Maurya) ने कहा कि बीसी सखियों के कार्य से महिलाओं की न केवल आमदनी बढ़ी है, बल्कि उन्हें समाज में भी उचित स्थान मिला है, उन्हें सम्मान मिला है और उनका स्वयं का भी आत्मविश्वास बढ़ा है. बड़ौदा भवन गोमती नगर में बीसी सखियों के सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने प्रदेश के कोने-कोने से आई उत्कृष्ट कार्य करने वाली बीसी सखियों को सम्मानित किया। यह बीसी सखियां बैंक ऑफ बड़ौदा से सम्बद्ध हैं। उन्होंने कहा कि बीसी सखियां एक तरह से मोबाइल बैंक साबित हो रही है और महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में बहुत ही अच्छा कार्य बी सी सखियों द्वारा किया जा रहा है।

बीसी सखियों के प्रति स्वाभाविक रूप से खास विश्वास

मातृशक्ति के प्रति समाज में खास विश्वास तो है ही लेकिन बीसी सखियों के प्रति स्वाभाविक रूप से खास विश्वास है। उन्होंने कहा कि बीसी सखी महिलाओं के बैंकों से लेनदेन के साथ-साथ पुरुषों को भी बैंकिंग सेवाएं देने की और अधिक अग्रसर हों और अपने कार्योंं को विस्तार दें। बीसी सखियों के सहयोग मिलने से पेंशन आदि के लेनदेन में बैंकों में ग्रामीणों को लाइन नहीं लगानी पड़ रही है और घर बैठे लेन-देन हो जा रहा है।

मनरेगा के मजदूरों के लेनदेन करने में बीसी सखी निभा रही महत्वपूर्ण भूमिका

मनरेगा (MANREGA) के मजदूरों का भी लेनदेन करने में बी सी सखी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह कर रही है और उनके घरों के लोग भी उनकी बढ़ती आमदनी से खुश हैं। बीसी सखी अपने घर- परिवार के अन्य लोगों को अलग-अलग क्षेत्रों में सक्रिय करें। बी सी सखियों द्वारा बड़ी तादाद में बैंकों में खाते भी खुलवाए गए हैं ।कहा कि वह अपने मोहल्ले तक सीमित ना रहे, अपने कार्य को और विस्तार दें। उन्होंने कहा कि बी सी सखियों के कार्य में कोई भी व्यवहारिक या अन्य किसी प्रकार की समस्या आ रही हो तो उसे उनके संज्ञान में लाया जाए।सरकार उनकी हर संभव मदद करेगी ।उन्होंने कहा जब महिलाएं सशक्त होंगी ,तो देश व प्रदेश की आगे बढ़ेगा.

बीसी सखियों की ओर से 2440 करोड़ रुपये का ट्रांजैक्शन कराया

इस अवसर पर उन्होंने बीसी सखियों के फील्ड का फीड बैक लिया और उनके सुझाव भी लिये। बताया गया कि बीसी सखियों द्वारा 2440 करोड़ रूपये का ट्रांजैक्शन कराया गया है, जिसमें उन्हें 7 करोड़ से अधिक कमीशन प्राप्त हुआ है।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story