Top

STF ने 6 महीने में किए सैकड़ों खुलासे, करोड़ो की रिकवरी, DGP ने सराहा

By

Published on 3 July 2016 5:10 PM GMT

STF ने 6 महीने में किए सैकड़ों खुलासे, करोड़ो की रिकवरी, DGP ने सराहा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: एसटीएफ के काम-काज की समीक्षा करते हुए रविवार को डीजीपी जावीद अहमद ने एसटीएफ के सभी सदस्यों को सम्मानित किया। डीजीपी जावीद अहमद ने कहा कि परंपरागत रूप से एसटीएफ का गठन, संगठित अपराध और दुर्दांत अपराधियों का सफाया करने के लिए हुआ था, लेकिन वर्तमान समय में साईबर क्राइम, ऑन लाइन ठगी, भर्ती/परीक्षा संबंधी अपराध समेत अन्य आर्थिक अपराधों ने एसटीएफ की चुनौतियों को कई गुना बढ़ा दिया है। बावजूद इसके एसटीएफ ने अपराधियों के हौसले पस्त किए और जनता में अपना विश्वास बनाए रखा।

6 महीने के कार्यकाल में एसटीएफ की उपलब्धियां

-डीजीपी जावीद अहमद ने बताया कि बीते एक जनवरी से अब तक एसटीएफ के नाम सैकड़ों उपलब्धियां रही हैं।

-जिसमें सबसे अहम उपलब्धि एनआईए अफसर तंजील अहमद के हत्यारे मुनीर को उसके अंजाम तक पहुंचाना है।

-इसके अलावा एसटीएफ की सक्रियता से पिछले 6 महीने में 65 से अधिक हत्या, डकैती, लूट की घटनाएं रोकी गईं।

-दर्जनों लोगो पर हमले रोकते हुए बड़ी संख्या में शूटर दबोचे गए।

-पिछले 6 महीने में एसटीएफ ने 337 अपराधी गिरफ्तार किए।

यह भी पढ़ें ... UP पुलिस को मिले 52 जाबांज फाइटर्स, हाई रिस्क से निपटेंगे चुटकी में

-जिसमें से 35 प्रदेश के शीर्ष इनामी अपराधी, 41 से अधिक हार्डकोर अपराधी शामिल हैं।

-पूरब में वसूली गैंग का सरगना धर्मेंद्र सिंह को एसटीएफ ने एनकाउंटर में ढेर किया।

-51 साइबर अपराधी को जेल भेजा, जो करोड़ो की धांधली में लिप्त थे।

-52 से ज्यादा ऐसे अपराधियों को अरेस्ट किया गया जो अंडरववर्ल्ड से जुड़े किडनैपर और कान्ट्रैक्ट किलर जैसे अपराधी थे।

-09 करोड़ से ज्यादा मूल्य की बरामदगियां।

-एक कार्बाइन समेत 271 अवैध शस्त्र एसटीएफ ने छः महीने में बरामद किए।

ये भी हैं चुनौतियां

भले ही सैकड़ों उपलब्धियां एसटीएफ के खातें में हों, लेकिन अभी भी कई ऐसी वारदातें हैं जिनके खुलासे के लिए एसटीएफ भरसक प्रयास कर रही है। जिसमें से राजधानी के हसनगंज तिराहे का हत्याकांड हो या सरोजनीनगर का कैश बॉक्स लूटकांड।

आईजी एसटीएफ राम कुमार ने कहा कि हमारी कई टीमें इन आपराधिक वारदातों पर लगातार काम कर रही हैं। मुमकिन हैं जल्द ही इन वारदातों के अपराधी भी पुलिस की गिरफ्त में होंगें।

Next Story