दिव्यकांत शुक्ला बने यूपी बोर्ड के ओएसडी, होंगे यूपी बोर्ड के कार्यवाहक सचिव

यूपी बोर्ड सचिव का पद अपर निदेशक स्तर का है और इस पद पर शिक्षा महकमे के कई चर्चित चेहरे रह चुके हैं। दिव्यकांत शुक्ल भी ऐसे अफसर हैं जिनके नाम चुनिंदा पदों पर रहने का रिकॉर्ड है।

divyakaant shukla

divyakaant shukla

लखनऊ। यूपी बोर्ड का सचिव का पद पाने के लिए कई नाम चर्चा में रहे लेकिन सफलता प्रयागराज के मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक दिव्यकांत शुक्ल को मिली। सोमवार को विशेष कार्याधिकारी के रूप में उन्होंने ज्वाइन किया है। पहली जुलाई से वह कार्यकारी सचिव होंगे। यूपी बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव 31 मार्च को ही सेवानिवृत्त हो रही थी लेकिन हाईस्कूल व इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा का परिणाम जारी कराने के लिए उन्हें तीन माह का सेवा विस्तार मिला। ये मियाद 30 जून को पूरी हो रही है और यूपी बोर्ड का हाईस्कूल व इंटरमीडिएट का परिणाम 27 जून को घोषित होना है।

मालगाड़ी से ऐसे चुराते थे चावल, पुलिस ने तीन शातिर चोरों को किया गिरफ्तार

दिव्यकांत शुक्ला को सौंपेंगी कार्यभार

अपर मुख्य सचिव माध्यमिक शिक्षा आराधना शुक्ला ने बताया कि अभी माध्यमिक शिक्षा विभाग, प्रयागराज में संयुक्त निदेशक के पद पर कार्यरत दिव्यकांत शुक्ला को ओएसडी भेजा गया है। यूपी बोर्ड की सचिव नीना श्रीवास्तव मार्च में सेवानिवृत्त हो रहीं थी लेकिन, यूपी बोर्ड की परीक्षा के चलते उन्हें 30 जून तक सेवा विस्तार दिया गया था। सेवा विस्तार खत्म होने पर वह दिव्यकांत शुक्ला को कार्यभार सौंपेंगी। पूर्णकालिक सचिव की तैनाती होने तक शुक्ला कार्यभार देखेंगे।

जिंदा ईल डाल ली अंदर, बोला 16 इंच की मछली खा जाएगी पॉटी सारी

चुनिंदा पदों पर रहने का रिकॉर्ड

बता दे कि यूपी बोर्ड सचिव का पद अपर निदेशक स्तर का है और इस पद पर शिक्षा महकमे के कई चर्चित चेहरे रह चुके हैं। दिव्यकांत शुक्ल भी ऐसे अफसर हैं जिनके नाम चुनिंदा पदों पर रहने का रिकॉर्ड है। मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक के पद पर कार्यरत शुक्ल करीब 20 वर्ष पहले 1997-98 में गौतमबुद्ध नगर जिले के बेसिक शिक्षा अधिकारी थे। लखनऊ व फैजाबाद में भी कुछ समय इसी पद पर रहे। इलाहाबाद अब प्रयागराज में मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक, जिला विद्यालय निरीक्षक, डायट प्राचार्य रहे हैं और इन दिनों मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक के पद पर कार्यरत हैं।

कई जिलों में तैनात रहे चुके है

2007 से 2011 तक निदेशक मनोविज्ञानशाला के पद पर रहे। 2010-11 में वे अपर सचिव क्षेत्रीय कार्यालय वाराणसी और 2012-14 तक प्रभारी संयुक्त शिक्षा निदेशक गोरखपुर मंडल रहे हैं। राज्य शिक्षा संस्थान प्रयागराज के प्राचार्य, उप्र माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड के सचिव रह चुके हैं। इसके अलावा झांसी, फतेहपुर, मीरजापुर सहित कई जिलों में तैनात रहे हैं।

रिपोर्टर- मनीष श्रीवास्तव, लखनऊ

चीन ने बनाया मारने का कीर्तिमान, 80 के दशक से दोस्ती में टिपिया रहा भारत को