बच नहीं पाएंगे रेपिस्ट: सरकार का आदेश- हर केस में होगा DNA टेस्ट

Published by Newstrack Published: March 16, 2016 | 4:16 pm
Modified: August 10, 2016 | 2:27 am

लखनऊ। अब यूपी में रेप मामलों में मेडिकोलीगल परीक्षण के साथ-साथ डीएनए सैम्पल भी कलेक्ट किया जाएगा। प्रदेश सरकार ने यह फैसला बढ़ती रेप और अन्य यौन उत्पीड़न की घटनाओं पर रोकथाम के लिए लिया है। अब सूबे के सभी हॉस्पीटल में डीएनए सैंपल किट खरीदें जाएंगे। ताकि दूर दराज के गांवों में भी रेप के मामलों में समय से डीएनए सैम्पल लिया जा सके।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर उपलब्ध होगी डीएनए किट
-यह किट चिकित्सालयों के साथ-साथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर भी उपलब्ध कराया जाएगा।
-किट में क्या चीजें होंगी, इसकी सूची विधि विज्ञान प्रयोगशाला ने उपलब्ध कराई हैं।
-शासन ने सूबे के सभी डीएम, सीएमओ और अस्पतालों के अधीक्षक को डीएनए सैम्पल किट खरीदने के आदेश दिए हैं।

हर चिकित्सालय में यूवी लाइट होगी|
-अब सभी अस्पताल यूवी लाइट खरीदेंगे।
-सरकार के आदेश के बाद प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अरविन्द कुमार ने इस बाबत सभी अधिकारियों को निर्देश जारी कर दिए हैं।
-दरअसल, अभी रेप केस के मामलों में चिकित्सालयों में यूवी लाइट (टार्च) न होने की वजह से सैम्पल कलेक्शन में दिक्कत आती है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App