Top

बाप ने देखना चाहा बेटे का मुंह तो डॉक्टर और नर्स ने मांगी रिश्वत

By

Published on 6 May 2016 11:58 AM GMT

बाप ने देखना चाहा बेटे का मुंह तो डॉक्टर और नर्स ने मांगी रिश्वत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोरखपुरः जिले के महिला हॉस्पिटल में डॉक्टर और नर्सों ने बेटे के जन्म के बाद बाप को उसका मुंह तक नहीं देखने दिया। उन्होंने डिमांड की, कि पहले पैसे दो फिर बच्चे का मुंह देखने को मिलेगा।

क्या है पूरा मामला?

-गोरखपुर के डवरपार गांव के रहने वाले राजेश की कुछ साल पहले शादी हुई थी।

-पैसे के अभाव के कारण उसने बच्चे की डिलीवरी जिला अस्पताल में कराई।

-शुक्रवार दिन में 12 बजे के मुन्नी ने बेटे को जन्म दिया।

यह भी पढ़ें...रिश्वत न देने पर किया हॉस्पिटल से बाहर, सड़क के किनारे जन्मी बच्ची

-यह खबर काम पर गए राजेश को पता चली, तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

-उसने तुरंत अपनी पत्नी का हाल-चाल जानने के लिए फोन किया।

-पत्नी ने कहा कि डॉक्टर, नर्स और कर्मचारी बच्चे का मुंह देखने के लिए रूपए की मांग कर रहे हैं।

-उसने फोन कर रूपए मांगने वालों को कहा कि वह आकर रूपए भी देगा और मिठाई भी देगा।

-उसके बाद भी डॉक्टर नर्स और कर्मचारी नहीं माने।

-वह जिला हॉस्पिटल पहुंचा तो उसे बेटे का मुंह नहीं दिखाया गया।

-सास कलावती देवी के 1000 देने के बाद भी राजेश से और पैसे की डिमांड की जाने लगी।

-राजेश ने 100 नंबर पर पुलिस को इसकी सूचना दी।

-मामला तूल पकड़ता देख डॉक्टर, नर्स और कर्मचारी वहां से खिसक लिए।

यह भी पढ़ें...ताक पर रखे फर्ज और कानून, एड्स पेशेंट को हॉस्पिटल में नहीं दी एंट्री

क्या कहते हैं मुख्य चिकित्सा अधिकारी?

-डॉक्टर रविंद्र कुमार ने कहा की हॉस्पिटल में एसआईसी की पोस्ट सीएमओ से बड़ी होती है।

-अधिकतर कागजी कार्यवाही एसआईसी द्वारा ही किया जाता है।

-यह मेरे विभाग का मामला नहीं है।

इस मामले पर जब थाना कोतवाली एसओ विजय राज सिंह से पूछा गया तो उन्होंने उच्च अधिकारियों का हवाला देते हुए मामले से पल्ला झाड़ लिया।

Next Story