कमरे में मरा मिला डॉक्टर, छत पर दिखती थीं नाचती हुईं आत्माएं

यह देखो मेरी छत और आंगन में कोई नाच रहा है, उसकी पायल की झंकार की आवाजें आ रही हैं। यह कहकर चिल्लाते हुए कानपुर के रहने वाले डॉ. ज्ञान प्रकाश अपने घर से बाहर भाग आते थे। उनकी इस परेशानी की बात जब उनके पड़ोसी पूछते तो वह बताते कि उन्हें भूत-प्रेत दिख रहे हैं और उनके घर की छ्त पर महिलाएं नाच रही हैं। दरअसल मंगलवार को डॉ. ज्ञान प्रकाश की उनके घर में ही संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। वह अपने घर में अकेले ही रहते थे। पड़ोसियों के मुताबिक डॉ. ज्ञान प्रकाश को अदृश्य शक्तियां दिखती थीं। जिसकी वजह से वह मानसिक रूप से परेशान थे।

Published by tiwarishalini Published: August 16, 2016 | 7:47 pm
Modified: August 16, 2016 | 7:54 pm

कानपुर: यह देखो मेरी छत और आंगन में कोई नाच रहा है, उसकी पायल की झंकार की आवाजें आ रही हैं। यह कहकर चिल्लाते हुए कानपुर के रहने वाले डॉ. ज्ञान प्रकाश अपने घर से बाहर भाग आते थे। उनकी इस परेशानी की बात जब उनके पड़ोसी पूछते तो वह बताते कि उन्हें भूत-प्रेत दिख रहे हैं और उनके घर की छ्त पर महिलाएं नाच रही हैं। दरअसल मंगलवार को डॉ. ज्ञान प्रकाश की उनके घर में ही संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। वह अपने घर में अकेले ही रहते थे। पड़ोसियों के मुताबिक डॉ. ज्ञान प्रकाश को अदृश्य शक्तियां दिखती थीं। जिसकी वजह से वह मानसिक रूप से परेशान थे।

क्या है मामला ?
-मामला कानपुर के नौबस्ता थाना क्षेत्र के हंसपुरम इलाके का है।
-जहां आयुर्वेदिक डॉ. ज्ञान प्रकाश सिंह चंदेल (60) की अपने ही घर में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई।
-डॉ. ज्ञान प्रकाश का शव उनके ही घर के आंगन में पड़ा मिला।
-उनके पूरे घर में खून के निशान भी मिले हैं।

घर पर कई जगह मिले खून के निशान
घर पर कई जगह मिले खून के निशान


पत्नी की दो साल पहले हो चुकी है मौत 

-बताया जा रहा है डॉ. ज्ञान प्रकाश की पत्नी सुधा सिंह की दो साल पहले ही अचानक मौत हो गई थी।
-अपनी पत्नी की मौत के बाद डॉ. ज्ञान प्रकाश कानपुर के ही नौबस्ता हंसपुरम स्थित अपने घर में अकेले ही रहते थे।
-डॉ. ज्ञान प्रकाश के दो बच्चे हैं।
-उनका एक लड़का धीरेंद्र सिंह जो गुडगांव में प्राइवेट कंपनी में इंजीनियर है और अपनी पत्नी अर्चना के साथ वहीं रहता है।
-डॉ. ज्ञान प्रकाश की एक बेटी रिंकी भी है जो शादी के बाद कानपुर में ही श्यामनगर स्थित अपने ससुराल में रहती है।

घटनास्थल पर जांच करती पुलिस
घटनास्थल पर जांच करती पुलिस


मृतक के भाई को हत्या का शक  

-डॉ. ज्ञान प्रकाश के भाई वीरेंद्र कानपुर के पनकी इलाके में ही रहते हैं।
-उन्होंने बताया कि उनके भतीजे धीरेंद्र का गुडगांव से मंगलवार को फोन आया।
-धीरेंद्र ने बताया कि पापा फोन नहीं रिसीव कर रहे ,हैं आप घर जाकर देखिए कोई बात तो नहीं है।
-जिसके बाद वह अपने भाई डॉ. ज्ञान प्रकाश के घर पहुंचे।
-घर का मेन गेट खटखटाने पर जब कोई जवाब नही मिला तो वह बाउंड्री फांद कर अंदर पहुंचे।
-जहां डॉ. ज्ञान प्रकाश का रूम खुला था और अंदर जगह-जगह खून के निशान थे।
-जब आंगन की तरफ जाकर देखा तो वहां डॉ. ज्ञान प्रकाश का शव जमीन पर पड़ा हुआ था।
-इस घटना के बाद उन्होंने यह जानकारी पुलिस को दी।
-वीरेंद्र के मुताबिक उन्हें संदेह है कि किसी ने उनके भाई डॉ. ज्ञान प्रकाश की हत्या कर दी है।

यह भीं पढ़ें … ये हैं मर कर जीने वाली खुशनसीब, यमलोक में बिताए पूरे 10 घंटे

क्या कहना है पड़ोसियों का ?
-पड़ोसियों ने पुलिस और मीडिया को बताया कि अपनी पत्नी की मौत के बाद डॉ. ज्ञान प्रकाश बीमार हो गए थे और अक्सर उलटी-सीधी बाते करते थे।
-डॉ. ज्ञान प्रकाश की पड़ोसी चंद्रा शुक्ला के मुताबिक डॉ. ज्ञान प्रकाश अक्सर उनसे अदृश्य शक्तियों और भूत-प्रेतों की बात करते थे।
-वह कहते थे कि उनके घर की छत पर महिलाएं नाच रही हैं, जो उन्हें दिखाई दे रही हैं।
-पड़ोसियों ने बताया कि डॉ. ज्ञान प्रकाश कहते थे कि उन्हें भूत-प्रेत दिखते हैं। आत्माएं उन्हें परेशान करती हैं।

क्या कहना है पुलिस का ?
-एसपी साउथ संजय कुमार यादव ने बताया कि इस घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस और फारेंसिक टीम ने सबूत जमा किए हैं और पड़ोसियों से बात की है।
-डॉ. ज्ञान प्रकाश के घर से दवाइयां भी मिली हैं। उनके घर पर जगह-जगह खून भी पड़ा हुआ है।
-पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही सब स्पष्ट हो पाएगा।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App