Top

किसानों का आर्थिक युद्धः सरकार का गुस्सा अंबानी पर, रिलायंस जिओ का बहिष्कार

कृषि कानूनों के बारे में केंद्र सरकार का मसौदा मिलने के बाद किसान संगठनों ने मान लिया है कि सरकार उनके बारे में नहीं सोच रही है। किसानों ने कहा है कि सरकार के साथ सभी समझौता वार्ता फेल हो चुकी हैं।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 9 Dec 2020 1:01 PM GMT

किसानों का आर्थिक युद्धः सरकार का गुस्सा अंबानी पर, रिलायंस जिओ का बहिष्कार
X
किसानों का आर्थिक युद्धः सरकार का गुस्सा अंबानी पर, रिलायंस जिओ का बहिष्कार (PC: social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: केंद्र सरकार से वार्ता विफल होने के बाद अब किसानों ने आर्थिक मोर्चे पर लड़ाई छेडऩे का ऐलान किया है। केंद्र सरकार का गुस्सा देश के पूंजीपतियों पर उतारते हुए किसान संगठनों ने अंबानी की रिलायंस कंपनी के खिलाफ युद्ध का ऐलान कर दिया है। किसानों ने कहा है कि वह रिलायंस जिओ के उत्पादों का बहिष्कार करेंगे।

ये भी पढ़ें:पेशेवर शूटरों का आतंक: मिर्जापुर को गोलीकांड से दहलाया, पूर्व प्रधान की हत्या

सरकार उनके बारे में नहीं सोच रही है

कृषि कानूनों के बारे में केंद्र सरकार का मसौदा मिलने के बाद किसान संगठनों ने मान लिया है कि सरकार उनके बारे में नहीं सोच रही है। किसानों ने कहा है कि सरकार के साथ सभी समझौता वार्ता फेल हो चुकी हैं। अब आर-पार की लड़ाई लड़ी जाएगी। किसानों ने आंदोलन की रणनीति का ऐलान बाद में करने की बात कही है लेकिन किसानों के संघर्ष के तेवर अब भी कड़े दिखाई दे रहे हैं। किसानों ने अपनी भावी रणनीति का संकेत भी कर दिया है। इसके तहत अब किसान सीधे अंबानी की कंपनियों के आर्थिक हितों पर चोट करेंगे। किसान नेताओं का मानना है कि अंबानी जैसे उद्योगपतियों के इशारे पर ही सरकार उनकी बात नहीं मान रही है।

farmer farmer (PC: social media)

संशोधन करने में अंबानी की दोस्ती आड़े आ रही है

कृषि कानून में संशोधन करने में अंबानी की दोस्ती आड़े आ रही है। ऐसे में अब सीधी लड़ाई अंबानी से ही होगी। किसान नेता डॉ दर्शन पाल ने कहा कि अब दिल्ली और आसपास के राज्यों से भी किसानों को दिल्ली चलो का नारा दिया जाएगा। बाकी राज्यों में अनिश्चितकाल तक के लिए धरने जारी रखे जाएंगे। 12 दिसंबर तक जयपुर-दिल्ली हाइवे जाम कर दिया जाएगा। किसान नेताओं ने यह भी बताया कि उन्होंने रिलायंस जिओ के उत्पादों का बहिष्कार करने का भी फैसला किया है। उनका मानना है कि जब सरकार में बैठे लोग अंबानी को अमीर बनाना चाहते हैं तो अब किसान उनके उत्पादों का बहिष्कार कर अंबानी का आर्थिक साम्राज्य ही कमजोर कर देंगे।

देश में भाजपा नेताओं के घेराव करने की रणनीति पर भी विचार कर रहे हैं

जब अंबानी का आर्थिक साम्राज्य ढहेगा तो अंबानी ही चाहेंगे कि किसानों की मांग मान ली जाए। किसान नेताओं ने यह भी बताया कि वह पूरे देश में भाजपा नेताओं के घेराव करने की रणनीति पर भी विचार कर रहे हैं। भाजपा के नेताओं और मंत्रियों का हर जिले और गांव में पहुंचने पर किसानों की ओर से घेराव किया जाएगा।

ये भी पढ़ें:किसानों को 4333 करोड़ रुपए: सीधे खाते में आएगा पैसा, ऐसे होंगे मालामाल

14 दिसंबर को देश भर में धरना- प्रदर्शन

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों पर पेश किए गए प्रस्ताव को खारिज करने के बाद किसान नेताओं का गुस्सा बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि हम अपना आंदोलन तेज करने जा रहे हैं। 14 दिसंबर को देशभर में धरना-प्रदर्शन होगा। दिल्ली की सडक़ों को जाम करेंगे। किसान नेताओं ने कहा कि जयपुर-दिल्ली हाइवे को 12 दिसंबर तक रोका जाएगा। पूरे देश में आंदोलन होगा। 12 दिसंबर को सभी टोल प्लाजा फ्री करेंगे।

रिपोर्ट- अखिलेश तिवारी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story