×

गोमती रिवर फ्रंट घोटाले में ईडी का यूपी समेत देश के कई राज्यों में छापा

कथित खनन घोटाले में सीबीआई के छापे के बाद अब गोमती रिवर फ्रंट घोटाले को लेकर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने देश के 4 राज्यों में छापेमारी की है। जानकारी के मुताबिक ईडी की टीमों ने आज यूपी, हरियाणा, राजस्थान और दिल्ली में छापेमारी की है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 24 Jan 2019 10:01 AM GMT

गोमती रिवर फ्रंट घोटाले में ईडी का यूपी समेत देश के कई राज्यों में छापा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: कथित खनन घोटाले में सीबीआई के छापे के बाद अब गोमती रिवर फ्रंट घोटाले को लेकर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने देश के 4 राज्यों में छापेमारी की है। जानकारी के मुताबिक ईडी की टीमों ने आज यूपी, हरियाणा, राजस्थान और दिल्ली में छापेमारी की है।

यह भी पढ़ें.....MP के पूर्व CM बाबूलाल गौर बोले, कांग्रेस के टिकट पर कर रहा हूं विचार

गोमती रिवर फ्रंट प्रॉजेक्ट में करोड़ो के घोटाले का आरोप

दरअसल, यूपी के मुख्यमंत्री रहते गोमती रिवर फ्रंट प्रॉजेक्ट अखिलेश का ड्रीम प्रोजेक्ट था, लेकिन इसमें करोड़ों रुपये के घोटाले का आरोप लगा है। इसी मामले में गुरुवार को ईडी ने छापेमारी की है। ईडी की यह कार्रवाई सिंचाई विभाग के पूर्व अधिकारियों, इंजिनियरों और गैमन इंडिया कंपनी के अधिकारियों के 8 ठिकानों पर चल रही है।

यह भी पढ़ें.....प्रियंका गांधी का अमेठी से परिचय काफी पुराना है

ईडी ने छह बड़ी कंपनियों को जारी किया था समन

गोमती रिवर फ्रंट प्रॉजेक्ट के घोटाले में बीते सितंबर में छह बड़ी कंपनियों को समन जारी किया था। ईडी के अधिकारियों ने बताया कि प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि जो कंपनियां ब्लैक लिस्टेड थीं, उन्हें रिवर फ्रंट के काम के ठेके दिए गए। इतना ही नहीं, इन कंपनियों को अधिक भुगतान भी किया गया। जिस राशि पर ठेका दिया गया, उससे अधिक भुगतान किया गया।

यह भी पढ़ें.....नागेश्वर राव से जुड़े केस से CJI के बाद अब जस्टिस सीकरी ने खुद को किया अलग

ईडी ने बीते सितंबर महीने में गैमन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, केके स्पून पाइप प्राइवेट लिमिटेड, रिशु कंस्ट्रक्शन, हाइटेक कम्पेटेंट बिल्डिर्स प्राइवेट लिमिटेड और तराई कंस्ट्रक्शन को समन जारी किया था।

पिछले साल ईडी ने दर्ज किया था केस

बता दें कि इस मामले में ईडी ने इस मामले में पिछले साल मुकदमा दर्ज किया था। आरोप है कि 1500 करोड रुपये के ठेके में 95 फीसदी धनराशि काम होने के पहले ही आवंटित कर दी गई थी। योगी सरकार ने इस मामले में सीबीआई जांच की सिफारिश की थी। माना जा रहा है कि इस घोटाले में तत्कालीन सपा सरकार के मंत्रियों के नाम भी आ सकते हैं।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story