Top

तीन डॉक्टरों के पैनल ने किया रितु का पोस्टमार्टम, मौत पर सस्‍पेंस कायम

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 25 May 2016 6:57 AM GMT

तीन डॉक्टरों के पैनल ने किया रितु का पोस्टमार्टम, मौत पर सस्‍पेंस कायम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कन्नौजः तिर्वा के सहनापुर गांव की रहने वाली बीटेक स्‍टूडेंट रितु यादव का 35 दिन बाद आखिर घरवालों ने अंतिम संस्कार कर दिया। इससे पहले उसके शव का दोबारा पोस्टमॉर्टम किया गया। मौत की वजह स्पष्ट नहीं हो सकी है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट लेने खुद सीएमओ गए थे। इसके बाद उन्होंने रिपोर्ट को लिफाफे में सीलबंद करा दिया। घरवालों का आरोप था कि रितु ने खुदकुशी नहीं की है, उसकी हत्या की गई है।

ritu-suicide-note रितु का सुसाइड नोट

ग्रेटर नोएडा के गलगोटिया यूनिवर्सिटी से बीटेक कर रही थी। उसकी लाश 19 अप्रैल को बिल्डिंग के नीचे मिली थी। घरवालों ने इसे मर्डर बताया था और लाश का अंतिम संस्कार करने से मना करते हुए डीएम से दोबारा पोस्‍टमार्टम के लिए गुहार लगाई थी। डीएम ने पहले दोबारा पोस्‍टमार्टम के लिए मना कर दिया था, लेकिन मंगलवार को इसकी अनुमति दे दी थी।

सुसाइड नोट में क्या लिखा था रितु ने?

-रितु ने सुसाइड नोट में साथ रहने वाली चार छात्राओं पर प्रताड़ित और मारपीट करने का आरोप लगाया था।

-घटना वाले दिन अपनी सहेली के ब्वॉयफ्रेंड विशाल के भी कमरे में मौजूदगी का जिक्र किया था।

घरवालों का क्या है कहना?

-रितु के घरवाले नोएडा पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप लगा रहे थे।

-रितु के शव को केमिकल लगाकर उसकी लाश दफना दी थी।

-कन्नौज प्रशासन से रितु के शव का दोबारा पोस्टमॉर्टम कराने की मांग की थी।

-नोएडा पुलिस ने मीडिया के दबाव के बाद दोबारा पोस्टमॉर्टम कराने का फैसला किया।

यह भी पढ़ें...35 दिन बाद भी नहीं हुआ शव का अंतिम संस्‍कार, DM ने मदद से किया इनकार

तीन डॉक्टरों के पैनल ने किया पोस्टमॉर्टम

-डीएम ने पोस्टमॉर्टम कराने के लिए तीन डॉक्टरों का पैनल बनाने को कहा।

-एसडीएम और सीओ ने रितु का शव निकलवाया और पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा।

-पोस्टमॉर्टम की वीडियोग्राफी के भी निर्देश दिए गए।

स्टूडेंट की मौत से पहले हुई थी ये वारदात

मामले की जांच में जुटी ग्रेटर नोएडा की कासना पुलिस के मुताबिक, रितु ने 16 अप्रैल को एनआरआई रेजीडेंसी के पास स्थित जगत फार्म मार्केट स्थित एक डिपार्टमेंटल स्टोर से शॉपिंग के दौरान एक कॉस्मेटिक टोनर चुरा लिया था। इसकी कीमत करीब 85 रुपए बताई गई। 19 अप्रैल को जब रितु की दो रूममेट उसी स्टोर में गईं तो स्टोर के ओनर ने धमकी देते हुए कहा था कि अगर रितु ने दो दिनों में टोनर की कीमत नहीं दी या उसे लौटाया नहीं तो वह पुलिस में केस कर देगा और सीसीटीवी फुटेज सौंप देगा।

तानेबाजी बनी सुसाइड की वजह?

कासना पुलिस के मुताबिक, दोनों रूममेट्स ने वापस पहुंचकर रितु को यह बात बताई। इस बात को लेकर काफी बहस हुई और उसके रूममेट्स ने उसको इस चोरी को लेकर ताना भी दिया। पुलिस के मुताबिक उसी रात जब रूम में सब सो गए, तब वो छत पर गई और वहां से कूद गई।

मौत से पहले आया था आखिरी कॉल

रितु के बाबा राम मोहन सिंह जो कन्नौज में रहते हैं, उन्होंने newztrack को बताया कि जिस रात घटना हुई, रितु ने अपने घरवालों से बात की थी। उसने अपनी मां से कहा कि मम्मी, मैं पापा, इशु और भाई सभी से बहुत प्यार करती हूं , लेकिन मैं अब आप लोगों के लिए कुछ नही कर पाऊंगी। फिर उसने फोन काट दिया। उसकी मां ने वापस कॉल की। एक बार मोबाइल पर रिंग गई, लेकिन इसके मोबाइल स्विच ऑफ बताने लगा। इसके बाद 20 अप्रैल की सुबह साढ़े छह बजे कसाना थाने से कॉल आई कि आपकी बेटी ने सुसाइड कर लिया है।

Newstrack

Newstrack

Next Story