एटा: डेंगू से 7 वीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्र की मौत, इलाके में पसरा मातम

नवम्बर पूरे जनपद में बुखार के कहर से हर घर में विछी हुई है चारपाई और लगातार मौतें होने का सिलसिला जारी है।  किंतु स्वास्थ्य विभाग सिर्फ खाना पूर्ति कर कागजों तक ही सीमित रह डेंगू के नाम पर सरकारी पैसा लूटने में जुटा है।

Published by Aditya Mishra Published: November 22, 2019 | 7:18 pm
Modified: November 22, 2019 | 7:19 pm

एटा: डेंगू की चपेट में आने से एटा के सरस्वती विद्या मंदिर हायर सेकेंडरी स्कूल के 7 वीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्र की मौत हो गई। वहीं मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अजय अग्रवाल ने बताया कि जनपद में डेंगू से कन्फर्म मौत कोई नहीं हुई है। बुखार, चिकनगुनिया, आदि से मौत को भी लोग डेंगू की मौत मान रहे हैं।

प्रशासनिक आंकड़ों के अलावा जमीनी हकीकत की बात करें तो 9 लोगों की मौत की पुष्टि पूर्व में सीएमओ एटा कर चुके हैं जबकि अभी तक जनपद में दो दर्जन से भी अधिक लोगों की डेंगू से मौत हो चुकी है और लगातार मौतें होने का सिलसिला जारी है।

जनपद में लगातार मौतों के बाद भी नगर पालिका कथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा डेंगू से बचाव के लिए मात्र खानापूर्ति की की जा रही है जिसके चलते जनपद के अधिकारियों वाले मोहल्लों व क्षेत्रों में ही फागिंग कर इतिश्री कर दी जाती है।

इससे पूर्व जिलाधिकारी आवास पर तैनात एक होमगार्ड की भी डेंगू बुखार से पीड़ित होने के कारण मौत हो चुकी है। वहीं नगर पालिका व मुख्य चिकित्सा अधिकारी डेंगू से बचाव के लिए ठोस इंतजाम किए जाने की बात भी कह रहे है।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा पूरे जनपद में मात्र 2 टीमें लगाकर डेंगू पीड़ितों तथा बुखार पीड़ितों का ख्याल रखा जा रहा है जो एटा जनता की जनता के लिए उनके जीवन से खिलवाड़ के साथ ही एक भद्दा मजाक है।

ये भी पढ़ें…यूपी के मुख्य सचिव ने दिए डेंगू की रोकथाम के लिए यह निर्देश