×

पूरे पैसे देने के बाद भी नहीं दिया गया प्रवेश पत्र, 167 छात्रों का भविष्य अधर में

उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में बीजेपी नेता के कालेज में स्टूडेंट्स के साथ बड़े पैमाने पर धांधली का राज़ फाश हुआ है। कैरियर पर अंधेरे का बादल मंडराता देख स्टूडेंट्स सड़क पर उतर आए।  स्टूडेंट्स का कहना है कि अगर मामले का हल नहीं निकला तो हम सुसाइड करने को भी मजबूर होंगे।  

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 13 Feb 2019 12:36 PM GMT

पूरे पैसे देने के बाद भी नहीं दिया गया प्रवेश पत्र, 167 छात्रों का भविष्य अधर में
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

सुल्तानपुर: उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में बीजेपी नेता के कालेज में स्टूडेंट्स के साथ बड़े पैमाने पर धांधली का राज़ फाश हुआ है। कैरियर पर अंधेरे का बादल मंडराता देख स्टूडेंट्स सड़क पर उतर आए। स्टूडेंट्स का कहना है कि अगर मामले का हल नहीं निकला तो हम सुसाइड करने को भी मजबूर होंगे।

दरअसल जिले का गनपत सहाय पीजी कालेज अवध यूनिवर्सटी अयोध्या से अटैच है। बीजेपी नेता एवं पूर्व में इसौली सीट से बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ चुके ओम प्रकाश बजरंगी इस कालेज के मैनेजर है।

कालेज के 167 छात्र-छात्राओं का प्रवेश पत्र न आने से उनका भविष्य अंधकार में पड़ गया है। इस कारण बुधवार को स्टूडेंट जिला अधिकारी से मिलने उनके कार्यालय पहुंचे, लेकिन जिलाधिकारी से मुलाकात न होने पर वो उग्र हो गए और उन्होंने कॉलेज प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी किया।

स्टूडेंट्स नें बताया कि उन्होंने 800 जमा किया फिर भी प्रवेश पत्र नहीं आया। प्रिंसिपल से संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि यह रसीद फर्जी है। जबकि स्टूडेंट का कहना है कि हम सभी नें कालेज के फीस काउंटर पर अपनी फीस जमा किया था। सवाल यह उठता है कि जब फीस काउंटर पर जमा हुई तो रसीद और मोहर और सिग्नेचर किसके हैं, और फीस किसने जमा किया?

बहरहाल कॉलेज के प्रिंसिपल कोई भी का जवाब देनें से पल्ला झाड़ रहे हैं। हालांकि आक्रोशित छात्रों का कहना है कि अगर मामले का निस्तारण जल्द से जल्द नहीं किया गया तो आगामी 18 तारीख को जिला मुख्यालय पर एक भारी प्रदर्शन होगा।

उधर एसएफआई नेता शशांक पाण्डेय ने कहा है कि अगर जिला प्रशासन व कालेज प्रशासन जल्द मामले का निस्तारण नही किया तो एसएफआई जिला मुख्यालय पर बड़ा आंदोलन करेगा जिसकी जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।

ये भी पढ़ें...सुल्तानपुर: क्राइम ज़ोन बना ज़िला, 12 घंटों में इंटरमीडिएट के छात्र समेत दो की हत्या

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story