Top

सामने आई पूर्व प्रधान की दबंगई, वोट न देने पर कर दी युवक की जमकर पिटाई

Admin

AdminBy Admin

Published on 20 March 2016 2:14 PM GMT

सामने आई पूर्व प्रधान की दबंगई, वोट न देने पर कर दी युवक की जमकर पिटाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अलीगढ़: महज वोट न देने पर अलीगढ़ के एक गांव के पूर्व प्रधान ने अपने साथियों के साथ मिलकर सरेआम युवक की लाठी-डंडों और पत्थरों से पिटाई कर दी, जिससे युवक बुरी तरह से घायल हो गया। लहुलुहान युवक जब थाने में मामला दर्ज करवाने पहुंचा तो पुलिस ने भी मामले को अनसुना कर दिया। मामला बीते 15 मार्च का है।

पूर्व प्रधान की दबंगई का यह नजारा एक अन्य युवक ने अपने मोबाइल पर कैद कर लिया और इसे सोशल मीडिया पर डाल दिया। यह वीडियो जब जिला पुलिस के आला अधिकारियों तक पहुंचा तो उन्होंने कार्रवाई के लिए कदम बढ़ाया। इससे पहले कोई भी अधिकारी पीड़ित का सुध लेने को तैयार न था। यह मामला सामने आने के बाद केवल एक ही बात दिमाग पर कूंधती है कि आखिर यह कैसा लोकतंत्र।

क्या है पूरा मामला

-यह मामला गोंडा थाना क्षेत्र के राना गांव का है।

-गांव के हो रहे ग्राम प्रधान के चुनाव में गांव के पूर्व प्रधान चोब सिंह पुत्र राजाराम भी उम्मीदवारी कर रहे थे।

-चुनाव परिणाम में उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा।

-हारने के बाद उसने पता लगाना शुरु किया कि किसने-किसने वोट नहीं दिया था।

-उसे गांव में रहने वाले संजू के विषय में पता चला।

-पूर्व प्रधान ने अपने साथियों के साथ मिलकर संजू को रास्ते में रोककर लाठी-डंडों से बुरी तरह पिटाई कर दी।

-जब संजू इस मामले की रिपोर्ट लिखवाने थाना गोंडा पहुंचा तो पुलिस ने महज़ धारा 151 में मामला लिख कर रफा दफा कर दिया।

-संजू पिछले कई दिनों से अस्पताल में भर्ती है और ज़िंदगी और मौत से लड़ रहा है।

वीडियो देखने के बाद आला अधिकारियों ने लिया एक्शन

-पीड़ित संजू का परिवार एसएसपी जे रावेन्द्र गौड़ से मिला और करवाई के लिए गुहार लगाई।

-एसएसपी ने एसओ गोंडा को लताड़ लगते हुए आरोपियों पर गुंडा एक्ट लगाने के आदेश दिए है।

पूर्व प्रधान की दहशत से खौफजदा है पूरा गांव

-पूर्व प्रधान चोब सिंह की गुंडई से पूरा परिवार दहशत में है।

-वे गांव छोड़ने की बात कह रहे हैं।

Admin

Admin

Next Story