Top

गहरेबाजीः चलते ट्रैफिक के बीच रोमांचित कर देती है ये अनोखी रेस

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 1 Aug 2016 10:34 PM GMT

गहरेबाजीः चलते ट्रैफिक के बीच रोमांचित कर देती है ये अनोखी रेस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इलाहाबादः ये रेस जिसने नहीं देखी वह इसका रोमांच नहीं समझ सकता। कल्पना कीजिए कि भीड़भाड़ वाली सड़क है। उसी के बीच अचानक घोड़ों की टापों की आवाज गूंजने लगती है। और गाड़ियों के अगल-बगल से निकलने लगते हैं रेस लगाते इक्के और तांगे। ये है गहरेबाजी। तांगों और इक्कों की ये दौड़ सावन के हर सोमवार को होती है। पुरानी परंपरा है इस वजह से ट्रैफिक पुलिस इस रेस को नहीं रोकती। कई बार इक्के-तांगे पलटते भी हैं, लेकिन रोमांच का ये तमाशा साल दर साल इलाहाबाद के पॉश महात्मा गांधी मार्ग पर जारी रहता है।

alld-2

आयोजकों के मुताबिक ये संगम नगरी की परंपरा है। जिसे गहरेबाजी नाम दिया गया है। इक्कों और तांगों के पीछे शोर मचाते बाइक सवारों का काफिला भी होता है। शोर इसलिए मचाया जाता है कि रेस में हिस्सा ले रहा घोड़ा जोश में रहे। लेकिन कभी-कभी घोड़े विचलित भी होते हैं और बाइक और स्कूटर सवारों के साथ इस रेस को देखने वाले सड़क किनारे खड़े लोग चोटिल भी हो जाते हैं।

alld-3

इस रेस में रफ्तार की जगह घोड़े के लयबद्ध अनुशासित चाल को पैमाना माना जाता है। तांगे का पहिया कालचक्र का प्रतीक होता है। इस रेस के जरिए लोग सावन में शिव को याद करते हैं। राजे-रजवाड़ों के वक्त से चली आ रही गहरेबाजी की इस दौड़ में सिर्फ पंडों यानी तीर्थ पुरोहितों के ही तांगे शामिल होते हैं। पहले ये दौड़ किसी खेत या बड़े मैदान पर हुआ करती थी, लेकिन शहर के बीच में अब होने लगी है। इस दौरान ट्रैफिक भी नहीं रोका जाता। पिछले सालों में कई बार इस रेस से हादसे भी हो चुके हैं।

alld-5

दौड़ के आयोजक और इसमें हिस्सा लेने वाले भी मानते हैं कि तांगों की ये रेस काफी खतरनाक है। उनका कहना है कि कई बार प्रशासन से कह चुके हैं कि रेस के वक्त ट्रैफिक रुकवा दिया जाए, लेकिन आज तक ऐसा नहीं हुआ। दौड़ के वक्त ट्रैफिक पुलिस के सिपाही तो रहते हैं, लेकिन वे भी रेस के रोमांच से बंध जाते हैं। ट्रैफिक से जुड़े अफसरों से इस बारे में बात करने की कोशिश की गई, लेकिन कोई इस पर कुछ कहने को तैयार नहीं है।

alld-4

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story