×

Lucknow News: SR स्कूल की छात्रा की मौत का मामला, आखिर किसके खौफ से चुप्पी साधे बैठा पीड़ित परिवार! पिता ने दी तहरीर

Lucknow News: बीकेटी के एसआर स्कूल की आठवीं की छात्रा प्रिया राठौर की डेथ मिस्ट्री उलझती जा रही है। पुलिस मौत के रहस्य से पर्दा उठाने की भरसक कोशिश कर रही है। परिवार के जुबान न खोलने की वजह से वो कानूनी तौर पर जांच में तेजी नही ला पा रही है।

Sunil Mishraa
Updated on: 24 Jan 2023 4:47 AM GMT
X

घटना के बारे में जानकारी देते पुलिस अधिकारी (न्यूज नेटवर्क)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Lucknow News: बीकेटी के एसआर स्कूल की आठवीं की छात्रा प्रिया राठौर की डेथ मिस्ट्री उलझती जा रही है। पुलिस मौत के रहस्य से पर्दा उठाने की भरसक कोशिश कर रही है। लेकिन परिवार के जुबान न खोलने की वजह से वो कानूनी तौर पर जांच में तेजी नही ला पा रही है। पुलिस अब यह जांच करने में जुटी है कि आखिर किसके खौफ से छात्रा के घरवाले इतने डरे हुए हैं। पुलिस के बहुत समझाने और सुरक्षा का भरोसा दिलाने के बाद सोमवार देर रात छात्रा के पिता ने तहरीर दी। इसके आधार पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया गया है।

बीजेपी एमएलसी पवन सिंह के बीकेटी स्थित एसआर स्कूल की आठवीं की छात्रा प्रिया राठौर की शुक्रवार देर रात संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। शव लेकर पैतृक गांव गए माता, पिता जयंती देवी और जयराम अंतिम संस्कार करके सोमवार को दोबारा लखनऊ पहुंचे। पुलिस इनके ही आने का इंतजार कर रही थी। स्कूल प्रबंधन और हॉस्टल स्टाफ के बयान पोस्टमार्टम रिपोर्ट से बेहद अलग होने की वजह से पुलिस को छात्रा की हत्या किए जाने का शक है। लेकिन इसकी गहराई से जांच करने के लिए पुलिस को परिवार की तरफ से लिखित तहरीर मिलने का इंतजार था।

कागज पर पेन घुमाते रहे माता-पिता

पुलिस ने थाने पहुंचे प्रिया के पिता जयराम और मां जयंती से काफी देर तक पूछताछ की। लेकिन दोनों की खामोशी ने पुलिस को हैरानी में डाल दिया। 13 साल की बेटी की रहस्यमय मौत पर भी उनकी चुप्पी ने पुलिस का शक और बढ़ा दिया। इस पर पुलिस ने उन्हें अकेले में बैठाकर पेपर और पेन दिया। उनसे कहा गया की मन में जो भी संदेह हो वही लिखकर दीजिए। बीकेटी इंस्पेक्टर बृजेश चंद्र तिवारी ने बताया की जयराम काफी देर तक पेपर पर पेन घुमाते रहे, लेकिन एक शब्द भी लिखकर नही दिया। काफी समझाने और सुरक्षा का भरोसा दिलाने पर देर रात वो दोबारा थाने पहुंचे और हत्या का शक जताकर अज्ञात के खिलाफ तहरीर दी है।

मेडिकोलीगल एक्सपर्ट खोलेंगा राज

परिवार की चुप्पी ने प्रिया की हत्या और उसके पीछे किसी प्रभावशाली शख्सियत का हाथ होने की संभावना बढ़ा दी है। इसकी वजह से पुलिस वैज्ञानिक साक्ष्यों को जुटाने के बाद ही घटना का खुलासा करने का प्रयास कर रही है। इसके लिए मेडिकोलीगल एक्सपर्ट की राय और पोस्टमार्टम रिपोर्ट की फोरेंसिक जांच पुलिस के लिए आगे का रास्ता तय करेगी। लेकिन सही घटनास्थल की जानकारी न होने की वजह से वीडियोग्राफी नही कराई जा सकी। यही कारण है कि पुलिस सोमवार को मेडिकोलीगल ओपिनियन के लिए रिपोर्ट नही भेज पाई। इंस्पेक्टर का कहना है की मंगलवार को स्कूल जाकर दोबारा जांच की जाएगी। सही घटनास्थल का पता लगाकर वीडियोग्राफी कराई जाएगी।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट देखकर हैरान एक्सपर्ट

प्रिया की डेथ मिस्ट्री सुलझाने में जुटी पुलिस ने उसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट एक पूर्व मेडिकोलीगल एक्सपर्ट को भेजी है। विशेषज्ञ उसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट देखकर हैरान हैं। उनका कहना है कि प्रिया अगर हॉस्टल की छठवीं मंजिल से कूदी होती तो उसकी गर्दन और रीढ़ की हड्डी को जोड़ने वाली हड्डी (फोरामेन गैग्नम) जरूर टूटती। उनका कहना है कि जब कोई भी इतनी ऊंचाई से गिरता है तो उसके घुटने डैमेज होने के साथ छाती की हड्डियां और फोरामेन गैग्नम का टूटना तय होता है। लेकिन प्रिया के केस में ऐसा नहीं हुआ है। दरअसल बॉडी अगर किसी अवरोध से टकराए बिना जमीन पर गिरती है तो वह पांव के बल नीचे पहुंचती है। ऐसी स्थिति में इन तीन जगह की हड्डियों का टूटना तय होता है। लेकिन प्रिया के केस में उसकी रीढ़ की हड्डी, जांघों की हड्डी, पसली और गर्दन की हड्डी में फ्रैक्चर पाया गया है। अमूमन ऐसी रिपोर्ट किसी को धक्का देकर गिराने की स्थिति में ही सामने आती है।

यह है मामला

जालौन निवासी प्रिया राठौर बीकेटी के भैंसामऊ क्रॉसिंग के पास स्थित एसआर ग्लोबल कॉलेज में आठवीं की छात्रा थी। वह हॉस्टल के पहली मंजिल पर तीन अन्य छात्राओं के साथ एक शिक्षिका की निगरानी में रहती थी। शुक्रवार रात नौ बजे के बाद संदिग्ध परिस्थितियों में उसका शव परिसर में पड़ा मिला था। उसे हॉस्टल की छठवीं मंजिल से धकेला गया या उसने कूद कर जान दे दी, अभी इसकी गुत्थी नहीं सुलझी है। घरवालों की तरफ से तहरीर मिलने के बाद पुलिस अब मौत का रहस्य सुलझाने में जुटी है।

Prashant Dixit

Prashant Dixit

Next Story