गन्ना मूल्य नहीं बढ़ने से नाराज किसानों ने जलाई गन्ने की होली

बिजनौर के ग्राम नियामतपुर में भी गन्ना क्रय केंद्र पर नाराज किसानों ने गन्ना जलाया और सरकार के विरोध में नारे लगाए। रालोद नेता राज कुमार सांगवान ने कहा कि पेराई सत्र 2019-20 में उत्तर प्रदेश सरकार ने ने गन्ने के राज्य समर्थित मूल्य इस साल भी नहीं बढाया।

मेरठ: सरकार ने एक बार फिर मूल्य में कोई इजाफा नहीं किया हैं। किसान 450 रुपेय कुंतल गन्ना मूल्य की मांग कर रहे थे। सरकार के इस कदम से किसान और किसान संगठन गुस्से में हैं। गुस्साये किसान भदौड़ा गांव में राष्ट्रीय लोकदल के वेस्ट यूपी प्रभारी डॉ.राज कुमार सांगवान की अगुवाई में एकत्र होकर सरकार विरोधी नारेबाजी की।

दरअसल, किसानों ने जमकर सरकार विरोधी नारेबाजी की फिर गन्ने की होली जलाई। राष्ट्रीय लोकदल नेता राज किमार सांगवान ने आंदोलन का ऐलान कर करते हुए सरकार पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाया है।

राज कुमार सांगवान ने कहा…

बिजनौर के ग्राम नियामतपुर में भी गन्ना क्रय केंद्र पर नाराज किसानों ने गन्ना जलाया और सरकार के विरोध में नारे लगाए। रालोद नेता राज कुमार सांगवान ने कहा कि पेराई सत्र 2019-20 में उत्तर प्रदेश सरकार ने ने गन्ने के राज्य समर्थित मूल्य इस साल भी नहीं बढाया।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि 2017 में बीजेपी की सरकार यूपी में बनी, तब पेराई सत्र 2017-18 में गन्ने के राज्य परामर्शी मूल्य में दस रुपये बढ़ाया था। 2018-19 और अब 2019-20 में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की।

रालोद नेता राज कुमार सांगवान का कहना है कि सरकार किसान विरोधी नीति अपना रही हैं। उन्होंने कहा कि सरकार किसान के लिए बिजली, खाद बीज सब महंगी करती जा रही है। उसकी मुख्य उपज गन्ने के रेट नहीं बढ़ा रही हैं। सरकार मिल मालिकों के दबाव में है। सरकार गरीब की न होकर पूजीपतियों की हो गई है। उन्होंने कहाकि रालोद इस मुद्दे पर गांव-गांव पंचायत कर किसान जागो आंदोलन चलाएगा।

डॉ.मेराजुद्दीन अहमद ने कहा…

पूर्व मंत्री एवं रालोद नेता डॉ.मेराजुद्दीन अहमद ने कहा कि सरकार किसानों के हक छीनकर उद्योगपतियों को दे रही है। केंद्र और प्रदेश सरकार किसानों को बर्बाद करने में लगी है।

पूर्व मंत्री ने कहा कि योगी सरकरा किसान विरोधी है। रालोद इस, मुद्दे पर कतई चुप नहीं बैठेगा। उन्होंने कहा कि रालोद कार्यकर्ता गांव-गांव सरकार की किसान विरोधी नीतियों की जानकारी देगा।

पंकज मलिक ने कहा…

कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष (वेस्ट यूपी प्रभारी) पंकज मलिक का कहना है कि पार्टी इस मुद्दे पर सड़कों पर उतरेगी और बीजेपी की किसान विरोधी चेहरा सामने लाएगी।

चौधरी राकेश टिकैत ने कहा…

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत ने कहा कि बीजेपी की सरकार के अजेंडे से किसान बाहर हो गए हैं। किसान संगठित होकर हक के लिए लड़ाई लड़ेंगे। 21 दिसंबर से हल क्रांति आंदोलन सरकार की नींद हराम कर देगा।

सरदार वीएम सिंह ने कहा…

वहीं, राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सरदार वीएम सिंह ने कहा कि गन्ने के रेट नहीं बढ़ाकर सरकार ने खुद को किसान विरोधी होने का सबूत दे दिया। खाद, बिजली, पानी, डीजल, जुताई सब महंगी और गन्ने के रेट कम करना अन्याय है। आठ जनवरी से ग्रामीण भारत बंद आंदोलन छेड़ा जाएगा।