×

भुखमरी की कगार पर पहुंची महिला ने सुनाई अपनी कहानी, नहीं पूरी हुई माँग तो करेगी आत्मदाह

यूपी के शाहजहांपुर में सैंकड़ों की तादाद मे अनुदेशकों ने धरना प्रदर्शन किया। अपनी मांगों को लेकर अनुदेशक काफी गुस्से मे नजर आए और उन्होंने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस दौरान कुछ महिलाएं रोती नजर आई। इन अनुदेशकों को पिछले 6 माह से वेतन नही मिला है।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 19 July 2019 10:11 AM GMT

भुखमरी की कगार पर पहुंची महिला ने सुनाई अपनी कहानी, नहीं पूरी हुई माँग तो करेगी आत्मदाह
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

शाहजहांपुर: यूपी के शाहजहांपुर में सैंकड़ों की तादाद मे अनुदेशकों ने धरना प्रदर्शन किया। अपनी मांगों को लेकर अनुदेशक काफी गुस्से मे नजर आए और उन्होंने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस दौरान कुछ महिलाएं रोती नजर आई। इन अनुदेशकों को पिछले 6 माह से वेतन नही मिला है। साथ ही उनकी मांग है कि 17 हजार रूपए वेतन चाहिए है। ये हम भीख नही अपना हक मांग रहे है। अब तो कोर्ट ने भी 17 हजार रूपए वेतन देने पर मोहर लगा दी है। सरकार हमारे साथ सौतेला व्यवहार क्यों रही है।

ये भी देखें:अम्बेडकरनगर: महरुआ रोड पर अनियंत्रित कार से छात्र की मौत, लोगो ने सड़क की जाम

दरअसल थाना सदर बाजार क्षेत्र खिरनीबाग रामलीला मैदान मे आज सैंकड़ों की तादाद मे अनुदेशकों ने इकट्ठा होना शुरू किया। उसके बाद उन्होंने जमकर नारेबाजी की। उसके बाद सभी अनुदेशक रैली निकालकर कलेक्ट्रेट परिसर पहुचे। जहां उन्होने सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपा। अनुदेशकों को पिछले 6 माह से वेतन नही मिला है। उनके परिवार भुखमरी की कगार पर पहुच गए है। उनकी मांग है कि हमे अब 17 हजार रूपए वेतन चाहिए है।

ये हमारा हक है क्योंकि अब कोर्ट ने भी इस मोहर लगा दी है। इस दौरान कुछ महिलाएं रोती नजर आई। साथ ही एक अनुदेशक ऐसी थी जिसको पति ने छोङ दिया था और उसके पास खर्चे के लिए पैसे नही थे। उसका कोर्ट मे मुकदमा चल रहा है। उसका कहना है कि आखिर हम पैसे किस्से मांगे। अनुदेशकों ने मांगे पूरी न होने पर परिवार समेत आत्मदाह की धमकी दी है।

ये भी देखें:कर्नाटक मामला: कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट से व्हिप को लेकर स्पष्टीकरण मांगा

वही अनुदेशक अपर्णा ने रोते हुए बताया कि उसे पिछले 6 माह से वेतन नही मिला है। उसके पति ने भी छोड़ दिया है। परिवारिक मुकदमा कोर्ट मे चल रहा है। काफी ज्यादा पैसे खर्च हो चुके है। मेनहत के बाद भी सरकार पैसा नही दे रही है। मेरे उपर पचास हजार रूपए का कर्ज हो चुका है।

उनकी मांग है कि जल्द से जल्द सरकार हमारा वेतन दे। और अब हम 17 हजार रूपए वेतन चाहते है। उनका कहना है कि अगर हमारी मांगे पूरी नही की गई तो वह परिवार समेत आत्मदाह कर लेगी।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story