Top

Firozabad News: बीजेपी नेता मुकेश वर्मा ने किसानों की सुनी समस्या, मंडी समिति के सचिव को बताया भष्टाचारी

भारतीय जनता पार्टी के शिकोहाबाद विधानसभा के विधायक ने शिकोहाबाद मंडी समिति के सचिव प्रदीप यादव को बताया बेईमान ओर भ्रष्टाचारी।

Brijesh Rathore

Brijesh RathoreReporter Brijesh RathoreMonikaPublished By Monika

Published on 10 Jun 2021 1:46 PM GMT

bjp leader mukesh verma
X

बीजेपी नेता मुकेश वर्मा 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

फ़िरोज़ाबाद: भारतीय जनता पार्टी के शिकोहाबाद विधानसभा के विधायक ने शिकोहाबाद मंडी समिति के सचिव प्रदीप यादव को बताया बेईमान ओर भ्रष्टाचारी। कहा यह किसानों को ठगने का काम करते हैं, यह समाजवादी पार्टी के गुंडे हैं जो 3 साल से यहां हैं।

शिकोहाबाद मंडी समिति में 8 दिनों से किसान इस बात को लेकर परेशान हैं कि उनके अनाज को मंडी समिति के अधिकारी ले नहीं रहे और ना ही उसको तोल रहे हैं। किसानों का आरोप है कि 8 दिन से परेशान है, हम गरीब है इसलिए जो पैसे वाले हैं, बिचौलिए हैं, उनका गेहूं लिया जा रहा है और उसे तोला भी जा रहा है। जब किसान परेशान हुए तो उन्होंने शिकोहाबाद विधानसभा के विधायक मुकेश वर्मा को मंडी समिति में बुलाया जहां उन्होंने किसानों के बीच पहुंचकर उनकी समस्याओं को सुना।

डॉ मुकेश वर्मा भारतीय जनता पार्टी शिकोहाबाद विधानसभा विधायक ने बताया कि किसान परेशान है उनकी पीड़ा से मुझे भी दुख है उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री ईमानदार हैं लेकिन यहां मंडी समिति के सचिव प्रदीप यादव वह बेईमान, भ्रष्टाचारी है और समाजवादी पार्टी के गुंडे हैं । 3 साल से भारतीय जनता पार्टी की सरकार में काम कर रहे हैं किसान बड़ी मुश्किल से पथरीली जमीन पर मेहनत करके अपना अनाज उगाता है लेकिन यहां बिचौलियों द्वारा एक टेक्निकल तरीके से उनके साथ अन्याय किया जा रहा है। यहां पर सैकड़ों किसान मौजूद है जिनका गेहूं अब तक चल जाना चाहिए था लेकिन भ्रष्ट अधिकारियों ने और उन्हें तारीख दे रखी है तारीख भी दे रखी है । 15:00, 15 दिन की किसान अपने माल के साथ ट्रैक्टर के साथ उसका माल लगा हुआ है वहां मौजूद है उसे कोई लेने वाला नहीं है।

बुजुर्ग किसान

भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ कठोर कार्यवाही हो

1975 में सरकार और गेहूं को लेना चाहती है इस से डायरेक्ट लाभ किसान को और यह भ्रष्ट अधिकारी उस लाभ को लेने देना नहीं चाहते और उस लाभ में बिचौलिए शामिल हैं, अधिकारी शामिल हैं। मैं बार-बार यही कहूंगा ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ कठोर से कठोर कार्यवाही हो जिससे अन्नदाता किसान हैं उसको सरकार से लाभ मिल सके।

पुत्तू लाल किसान ने बताया कि मैं 8 दिन से यहां रुका हुआ हूं और गेहूं लेकर आया हूं। रात भर हो गई या मच्छर खाते हैं, परेशान है गेहूं हमारा नहीं तूल रहा है जो पैसे वाले हैं उनका गेहूं तुल रहा है, हम काफी परेशान हैं।

Monika

Monika

Next Story