×

Firozabad: आपसी रंजिश में दरोगा ने दुकानदार को भेजा जेला, जेब में रखी नगदी को भी लगाया पार

Firozabad News: फिरोजाबाद थानां शिकोहाबाद में चार दिन पूर्व मोहल्ला खेड़ा चौकी क्षेत्र अंतर्गत थाना पुलिस ने एक जुआ के अड्डे पर छापा मारा था।

Brajesh Rathore
Updated on: 21 May 2022 6:18 AM GMT
Firozabad: आपसी रंजिश में दरोगा ने दुकानदार को भेजा जेला, जेब में रखी नगदी को भी लगाया पार
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Firozabad: बेलगाम पुलिस का अजीब कारनामा दुकानदार को जबरन वसूली के मामले में पकड़ा। जब पैसे नही मिले तो फर्जी जुआ के केस में लिख कर बन्द कर दिया। और उसकी जेब मे रखे दस हजार से अधिक की नगदी छीन कर जुआरियो के साथ मुकदमा दर्ज कर निजी मुचलके पर जमानत दे दी गयी। जबकि दुकानदार की दुकान पर सीसीटीवी कैमरे लगे है। दुकानदार दुकान पर पुलिस आने तक कैमरे में स्पष्ट दुकान पर बैठा दिखाई दे रहा है। दरोगा ने निजी रंजिश में उसे फर्जी बन्द किया है। इसकी शिकायत पीड़ित ने उच्च अधिकारियों से की है।

फिरोजाबाद थानां शिकोहाबाद में चार दिन पूर्व मोहल्ला खेड़ा चौकी क्षेत्र अंतर्गत थाना पुलिस ने एक जुआ के अड्डे पर छापा मारा था। इस दौरान पुलिस ने 8 लोगों को पकड़ कर जुआ की धारा में मुकदमा दर्ज कर निजी मुचलके पर छोड़ दिया। इसमें एक युवक अनुराग पांडेय भी शामिल था। युवक ने पुलिस अधीक्षक ग्रामीण को शिकायती पत्र के साथ वीडियो की रिकार्डिंग भी सौंपी है।

भगवंतवाला बाग निवासी अनुराग पांडेय ने कहा कि बीच रास्ते से उसे पुलिस ने उठा लिया। विरोध किया तो पुलिस कर्मियों ने अभद्रता की। पीड़ित का आरोप है कि पुलिस ने उसके साथ अन्याय किया है। जिसकी शिकायत पीड़ित ने पुलिस अधीक्षक ग्रामीण डॉ. अखिलेश नारायण सिंह से की है।


पीड़ित ने थाना पुलिस पर छोड़ने के लिए 50 हजार रुपये मांगने तथा जेब में रखे 10375 रुपये भी जेब से निकालने का भी आरोप लगाया है। पीड़ित दुकानदार अनुराग पांडे के आरोपों की निष्पक्ष जांच हो। दोषियों के खिलाफ ऐसी कार्यवाही हो, ताकि फिर किसी निर्दोष के खिलाफ कार्यवाही न हो।

प्रदेश की योगी सरकार की नीतियों को पलीता लगाती पुलिस एक व्यक्ति दुकान पर बैठा है सीसीटीवी में कैद है पुलिस की गाड़ी आती हुई दिखाई देती है लेकिन एक निर्दोष को किस प्रकार पकड़ कर पचास हजार रुपए मांगती है। पचास हजार रुपये न देने पर फर्जी जुआ में बंद किया जाता है। जेब मे रखे दस हजार से अधिक की नगदी उसके जेब से निकाल कर उसे फर्जी जुआरी बना कर सामाजिक जीवन मे बेइज्जत किया गया है।


Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story