Top

यूपी के 20 जिलों में बाढ़ से हाहाकार, वाराणसी शहर में घुसा पानी

By

Published on 11 Aug 2016 10:00 PM GMT

यूपी के 20 जिलों में बाढ़ से हाहाकार, वाराणसी शहर में घुसा पानी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ/वाराणसीः यूपी में बाढ़ की वजह से हालात गंभीर हैं। बाढ़ से 20 जिले प्रभावित हैं। इनमें बाराबंकी, गोंडा, लखीमपुर खीरी, बलरामपुर, अंबेडकरनगर और पीलीभीत में सबसे ज्यादा नुकसान की खबर है। बाढ़ से 33 लोग जान भी गंवा चुके हैं। इस बीच, गंगा और वरुणा के उफनाने से वाराणसी शहर के कई इलाकों में बाढ़ का नजारा दिख रहा है।

बाढ़ से हाहाकार

बाढ़ से 1157 गांवों के करीब 9 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। 134 मकान गिर गए हैं और 101 क्षतिग्रस्त हुए हैं। 48 कच्चे मकान और 588 झोपड़ियां भी नष्ट हो गई हैं। राहत शिविरों में 9 हजार से ज्यादा लोगों ने शरण ले रखी है। यूपी सरकार के मुताबिक बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए 2 हजार नाव, 29 मोटरबोट और डॉक्टरों की 121 टीमें लगाई गई हैं।

बाढ़ आबादी वाले इलाकों में लगातार बढ़ रहा है पानी

वाराणसी शहर में घुसा पानी

गंगा और वरुणा नदियों में उफान से वाराणसी शहर के कई इलाकों में बाढ़ का नजारा है। गुरुवार को कोहना, शैलपुत्री और कोनिया में लोगों के घरों में वरुणा का पानी घुस गया। गंगा का स्तर भी लगातार दो दिन से बढ़ रहा है। बाढ़ की वजह से शैलपुत्री इलाके के दर्जनभर परिवार दूसरी जगह चले गए हैं। वहीं, कोहना पुल पर भी कई परिवार अस्थायी आशियाना बनाकर रह रहे हैं।

बाढ़ सामान लेकर सुरक्षित स्थान पर जाती महिला

पाट-घाट लांघकर आबादी में पानी

वाराणसी में गंगा लगातार बढ़ रही है। पूरे पाट में बह रही नदी ने पहले घाटों को समेटा। अब उसका पानी आबादी में घुसने लगा है। लगातार बढ़ती गंगा से लोग डरे हुए हैं। नदी में तेजी से पानी बह रहा है। गंगा की बाढ़ की वजह से वरुणा भी उफनाई हुई है। नक्खीघाट में भी पानी भर रहा है। इससे वरुणा कॉरीडोर का काम भी रुक गया है। पिछले तीन महीने में करोड़ों रुपए खर्च करके बनाए गए घाट भी पानी में डूबे हुए हैं। बाढ़ के पानी में कई पोकलैंड मशीनें भी डूब गई हैं।

Next Story