×

मौनी अमावस्या: सुरक्षा के लिए चप्पे-चप्पे पर मुस्तैद रहेगी फोर्स

उन्होंने यह भी बताया कि संदिग्ध व्यक्तियों/ वस्तुओं के तलाश हेतु समय-समय पर आपरेशन स्वीप चलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि 1000 फोर्स और बढ़ाई जा रही है। 2100 वालंटियर्स, प्रशिक्षित कर लगाये जायेंगे तथा एक कम्पनी बाढ़ राहत की और लगाई जाएगी।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 2 Feb 2019 2:49 PM GMT

मौनी अमावस्या: सुरक्षा के लिए चप्पे-चप्पे पर मुस्तैद रहेगी फोर्स
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

आशीष पाण्डेय,

कुंभ नगर: मौनी अमावस्या को दृष्टिगत रखते हुए डी.आई.जी./एस.एस.पी. कुम्भ श्री के.पी.सिंह ने पुलिस प्रबन्धन के विषय में बताया कि मौनी आमावस्या के अवसर पर पुलिस के व्यापक प्रबन्ध रहेंगे।

सुविधा एवं व्यवस्था को सुचारु रखने के दृष्टिगत सम्पूर्ण मेला क्षेत्र को 10 जोन एवं 25 सेक्टर में बांटा गया है। प्रत्येक जोन का प्रभार अपर पुलिस अधीक्षक स्तर के अधिकारी को तथा प्रत्येक सेक्टर का प्रभार पुलिस उपाधीक्षक स्तर के अधिकारी को दिया गया है। मेले में बनाये गये 40 थानों पर प्रभारी निरीक्षक स्तर के अधिकारी तथा 58 चौकियों पर उपनिरीक्षक तैनात रहेंगे।

ये भी पढ़ें— ऐसे बनें प्रोफेशनल ज्योतिषी, कमायें पैसा और शोहरत

आपातकाल हेतु 43 फायर स्टेशन व 15 सब-फायर स्टेशनों, कुल 58 फायर स्टेशनों के साथ 40 फायर वाच टॉवर एवं 96 कन्ट्रोल वाच टॉवर स्थापित किये गये हैं। तत्कालिक एवं निर्बाध संवाद के लिए 12 वायरलेस ग्रिड तथा एक इंटीग्रेटेड कमाण्ड कन्ट्रोल सेंटर (आई.सी.सी.सी.) स्थापित किया गया है। मेला क्षेत्र में 440 सी.सी. टी.वी. कैमरों की मदद से लगातार निगरानी की जाएगी।

संगम क्षेत्र को झूंसी क्षेत्र से जोड़ने के लि 17, अरैल को झूंसी से जोड़ने के लिए 3 और फाफामऊ को नगर से जोड़ने के लिए 2 व कुल 22 पीपे के पुल बनाए गए हैं। श्रद्धालुओं को स्नान कराने के लिए संगम एवं संगम प्रसार क्षेत्र सहित 41 स्नान घाट विकसित किए गए है। कुम्भ मेला को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए राजपत्रित अधिकारियों सहित भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है।

मेल क्षेत्र में 50 पुलिस उपाधीक्षक, 13 अपर पुलिस अधीक्षक, 21 सहायक पुलिस अधीक्षक सहित एक-एक पुलिस अधीक्षक व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक भी तैनात हैं। 6500 होमगार्ड व 398 रिक्रूट आरक्षी के साथ-साथ 7425 आरक्षी, 756 मुख्यआरक्षी, 696 उपनिरीक्षक व 72 निरीक्षकों की तैनाती की गयी है। रेडियो शाखा के एक एस.आर.ओ., 2 एडिशनल एस.आर.ओ., 6 ए.आर.ओ., 17 आर.आई. सहित 535 अधिकारी व कर्मचारीगण तैनात हैं।

ये भी पढ़ें— कुंभ: 600 रू मजदूरी- सफाई कर्मियों ने मेला प्राधिकरण कार्यालय पर दिया धरना

इसी प्रकार अग्निशम शाखा के 1 उपनिदेशक, 10 अग्निशमन अधिकारी, 22 एफ.एस.ओ., 49 एफ.एस.एस.ओ. सहित 871 अधिकारी व कर्मचारीगण तैनात हैं। पी.ए.सी. की कानून व्यवस्था हेतु 14 कम्पनियां व बाढ़ राहत हेतु 6 कम्पनियॉ तैनात हैं। सी.ए.पी.एफ. की कुल 37 टीमें, एन.डी.आर.एफ. 10 व एस.डी.आर.एफ. की 2 टीमें तैनात की गयी हैं।

उत्तराखण्ड पुलिस से भी 1 पुलिस उपाधीक्षक, 5 निरीक्षक, 20 उपनिरीक्षक, 35 मुख्यआरक्षी, 65 आरक्षी एवं पी.ए.सी. की 2 कम्पनी तैनात की गयी है। साथ ही एस.टी.एफ. की 1 टीम, ए.टी.एस. की 2 टीम, एन.एस.जी. की 1 एडवांस टीम, बी.डी.डी.एस. की 5 टीम, ए.एस. चेक की 18, 12 डॉग स्क्वॉड टीम तथा 2 टीम स्पॉटर्स की तैनात है।

ये भी पढ़ें— कुंभ-2019: दूसरे शाही स्नान में श्रद्धालुओं के लिए चलेंगी 5500 बसें

उन्होंने यह भी बताया कि संदिग्ध व्यक्तियों/ वस्तुओं के तलाश हेतु समय-समय पर आपरेशन स्वीप चलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि 1000 फोर्स और बढ़ाई जा रही है। 2100 वालंटियर्स, प्रशिक्षित कर लगाये जायेंगे तथा एक कम्पनी बाढ़ राहत की और लगाई जाएगी।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story