Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

माफिया, भ्रष्ट और दलबदलू नेताओं की पोल खोलेंगे पूर्व आईएएस एसपी सिंह

By

Published on 31 Aug 2016 11:22 AM GMT

माफिया, भ्रष्ट और दलबदलू नेताओं की पोल खोलेंगे पूर्व आईएएस एसपी सिंह
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह माफिया, भ्रष्ट और दलबदलू नेताओं की पोल खोलेंगे। 'वास्ट' (VAST-Voluntary Action for Social Transformation) संस्था के संरक्षक के तौर पर यह घोषणा करते हुए उन्होंने कहा है कि ‘वोट करें प्रदेश गढ़ें’ नामक अभियान भी चलाया जाएगा। इसमें लोगों को मताधिकार का प्रयोग करने और भ्रष्ट प्रत्याशियों की जमानत जब्त कराने को प्रोत्साहित किया जाएगा।

-एसपी सिंह ने कहा दलों के घोषित अराजक और भ्रष्ट प्रत्याशियों को जनता न चुने।

-‘गुरिल्ला उड़न-दस्ता’ के तहत प्रत्याशियो व पार्टियों का ‘चरित्र-उजागर करो’ प्रोग्राम शुरू होगा।

-सभी पोलिटिकल पार्टियों के ‘पोलिटिकल गुरुओं’ ने दलबदल का विरोध किया है।

-पं. दीनदयाल उपाध्याय ने कहा था कि दल-बदल को प्रोत्साहन नहीं देना चाहिए।

-दलबदलुओं को तरजीह मिलने से पार्टी के सिद्धांतवादी नेता/कार्यकर्ता निराश होते हैं।

-दल बदल के खेल के जरिए मुद्दों से किनाराकशी में जुटी हैं प्रदेश की प्रमुख पार्टियां।

-विधान सभा चुनावों से कुछ माह पहले ही इस घृणित खेल ने दल बदल कानून को भी प्रभावहीन बना डाला है।

-इस आवाजाही के आने वाले दिनों में और गति पकडने की प्रबल संभावनायें हैं।

sp-singh-fb

-आज का दलबदल विरोधी कानून कमजोर है, सत्ताधीशों सीधा-साधा कानून क्यों नहीं बनाती है?

-क्यों उसमें इतने जटिल प्रावधान बना दिए जाते हैं जिनका खुलेआम दुरुपयोग किया जाता है, जिससे उस कानून की आत्मा ही मर जाती है।

-दल जाति आधारित गणित बैठकर कैंडिडेट्स का चयन करने में लगे हैं।

-लाखों-करोड़ों रुपये का लेन-देन होगा।

-जनता के मुद्दों को पूरी तरह से राजनैतिक परिदृश्य से पृष्ठभूमि में धकेला जा रहा है।

-बाढ़ से 28 जिलों में बुरा हाल। सभी दल रथ यात्राएं निकाल रही हैं।

-महिलाओं का प्रतिनिधित्व जनसंख्या के अनुपात हो, इसके लिए जागरूकता अभियान चलेगा।

-बुद्धिजीवी राजनीति को एक प्रोफेशन मानकर ज्वाइन करें। इसके लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

-सियासी दलों के पूर्व वर्षों किये गए वादों को जनता के सामने उजागर कर पोल खोली जाएगी।

-Blame-game को उजागर किया जाएगा।

Next Story