×

Mirzapur News : पूर्व बाहुबली MLA विजय मिश्रा की हुई मिर्ज़ापुर कोर्ट में पेशी

Mirzapur News : विजय मिश्रा ने आगे कहा कि, 'अगर मुख्यमंत्री ईमानदार हैं तो इस मामले की जांच सीबीआई से कराए। एडीजी प्रशांत कुमार व तत्कालीन एसपी की जांच सीबीआई से कराई जाए।

Brijendra Dubey
Updated on: 2022-08-05T19:14:00+05:30
former mla vijay mishra appeared in mirzapur court says up government should conduct cbi inquiry
X

Former MLA Vijay Mishra 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Mirzapur News : उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मिर्जापुर जिला अदालत (Mirzapur District Court) में रंगदारी मांगने के आरोप में पूर्व बाहुबली विधायक विजय मिश्रा (Former Bahubali MLA Vijay Mishra) को पेश किया गया। पेशी के बाद विजय मिश्रा ने एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार (ADG Law and Order Prashant Kumar) व तत्कालीन एसपी के ऊपर फर्जी मुकदमे में फंसाने का आरोप लगाया। बाहुबली विजय मिश्रा की पेशी को लेकर कोर्ट परिसर में भारी पुलिस बल की मौजूद रही।

ADG और तत्कालीन SP पर फंसाने का आरोप

पेशी के बाद पूर्व विधायक विजय मिश्रा ने एडीजी लॉ एंड ऑर्डर सहित भदोही के तत्कालीन एसपी रहे रामबदन सिंह के ऊपर फंसाने का आरोप लगाया। विजय मिश्रा ने कहा, 'मेरी हत्या को लेकर तत्कालीन एसपी ने 3 एके- 47 (AK 47) सहित 6 पिस्टल और 12 से 14 मैगजीन मंगाए थे। ये हथियार मेरी हत्या में इस्तेमाल के लिए लाए गए थे। लेकिन, अब एके- 47 की बरामदगी दिखाकर पुलिस फंसाना चाह रही है।'

विजय मिश्रा ने ADG पर लगाए गंभीर आरोप

विजय मिश्रा ने आगे कहा, 'कुछ दिन तक एके- 47 गोपीगंज में रहा। फिर उसे नरउर में रखा गया। कुछ दिन पुलिस लाइन में रखी गई। उसके बाद गाजीपुर में रखा गया। 11 मई को भदोही कोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर हमने एके- 47 दिखाकर फंसाने की बात कही थी। एडीजी ने 02 करोड़ की रंगदारी मांगी थी। जिसे न देने पर फंसाया जा रहा है। उन्होंने कहा, पेट्रोल पंप से बरामद की गई एके- 47 एसटीएफ लखनऊ लेकर आई थी।'

मुख्तार अंसारी से संबंध पर ये बोले विजय मिश्रा

वहीं, यूपी के पूर्व बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) से संबंध पर विजय मिश्रा ने कहा, कि 'मुख्तार से हमारा कोई लेना-देना नहीं है। न ही हमारा उससे कोई संबंध है। मुख्तार अंसारी से राजा भैया का संबंध है। उनके साथ राजा भैया ने खाना खाया। तत्कालीन खाद्य मंत्री रहते हुए राजा भैया ने ही गाजीपुर में एफसीआई का गोदाम बनवाया था। उस गोदाम से हर महीने 25 से 30 लाख रुपए राजा भैया लेते थे। साल 1998 के बाद मुख्तार अंसारी से मेरा कोई संबंध नहीं है।'

'मुझे और बेटे को आतंकवादी साबित करना चाह रही पुलिस'

जिले के विंध्याचल निवासी एक व्यक्ति से रंगदारी मांगने मामले में शुक्रवार को प्रथम एसीजेएम कोर्ट (First ACJM Court) में विजय मिश्रा की पेशी हुई। पेशी के बाद पूर्व बाहुबली विधायक ने सरकार पर एक के बाद एक गंभीर आरोप लगाए। बाहुबली विधायक विजय मिश्रा ने कहा कि, मुझे और मेरे बेटे को सरकार आतंकवादी साबित करना चाहती है। जिस पेट्रोल पंप से हथियार बरामद हुआ है, वह पिछले छह महीने से बंद पड़ा है।

मुख्यमंत्री हैं ईमानदार तो कराएं CBI जांच

विजय मिश्रा ने आगे कहा कि, 'अगर मुख्यमंत्री ईमानदार हैं तो इस मामले की जांच सीबीआई से कराए। एडीजी प्रशांत कुमार व तत्कालीन एसपी की जांच सीबीआई से कराई जाए। उन दोनों अफसरों को सरकार जेल भेजे। बता दें कि, इस मामले की जांच अभी एसटीएफ (SFT) के जिम्मे है।

खून की प्यासी है सरकार

पूर्व बाहुबली विधायक विजय मिश्रा ने अंत में कहा, कि 'सुशील सिंह (Sushil Singh) ने पहले ही उनको अवैध असलहे के बारे में बताया था। विजय मिश्रा बोले, कि सरकार उनके बेटे और दामाद के खून की प्यासी है। अभी और कितने मुकदमे दर्ज होंगे, कितनी पेशी होगी, पता नहीं।' विजय मिश्र ने कहा, 'बृजेश सिंह (Brijesh Singh) को हमने जिताया है।'

अपनी बातों में विजय मिश्रा लगातार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते रहे। सीएम योगी के अपनी मां और बहन से मुलाकात को लेकर भी उन्होंने सवाल खड़े किये।

aman

aman

Next Story